प्रीति जिंटा ने किया पहले इंडो पोलिश फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ का प्रमोशन

प्रीति जिंटा ने किया पहले इंडो पोलिश फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ का प्रमोशन

प्रमोद कुमार

स्‍टनिंग बॉलीवुड एक्‍ट्रेस प्रीति जिंटा ने ध्रुव वर्मा की इंडो पोलिश फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ को प्रमोट किया। इसके लिए उन्‍होंने एक वीडियो जारी किया, जिसमें प्रीति जिंटा ने फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ को अमेजिंग बताया। साथ ही उन्‍होंने फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ के पूरी कास्‍ट को शुभकामनाएं भी दी। उन्‍होंने कहा कि वे सच में इस फिल्‍म को देखना चाहती हैं और इसको लेकर एक्‍साइटेड भी हैं और फिल्‍म का इंतजार कर रही हैं। प्रीति ने इस वीडियो में फिल्‍म के हीरो और यूरोप व हॉलीवुड में इंडियन जेम्‍स बांड के नाम से मशूहर बिहारी बॉय ध्रुव वर्मा और विकास की भी तारीफ की है।

इससे पहले फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ का टीजर बीते दिनों जारी हो चुका है। यह एक्‍शन फिल्‍म है, जो संभवत: 22 मार्च 2021 को रिलीज होगी। फिल्‍म हिंदी, इंग्लिस और पोलिस में रिलीज होगी। इसके लिए तैयारियां भी चल रही हैं। फिल्‍म के टीजर में ध्रुव वर्मा का शानदार एक्‍शन अवतार दिखा है। इसमें उनकी अदाकारी को देखकर सभी आश्‍चर्यचकित हैं। उनके इस फिल्‍म के टीजर को फिल्‍म क्रिटिक्‍स की ओर से भी सराहना मिली है।

ध्रुव वर्मा ने अपनी इस बेहद महत्‍वाकांक्षी फिल्‍म के लिए खूब मेहनत की। उन्‍होंने इंडो-पोलिश मेगा बजट की फिल्म ‘नो मीन्‍स नो’ के लिए पोलैंड में महीनों तक कार्व मेगा में बिताया, जहां नेल बाइटिंग एक्शन दृश्यों का गुर सीखा। यह एक इज़राइली फाइटिंग स्टाइल है, जो सेना के लिए विकसित है। इसके अलावा जयर्की सारियो डेफिंडो में महारत हासिल की। यह यूरोपीय के लिए विकसित की जाने वाली फाइटिंग स्टाइल है, जिसमें गुरु श्री बार्टेक डोबरोवस्की से बंदूक की शूटिंग सीखी। वे पहले से ही संजय दत्त से शूटिंग तकनीकों महारत में प्राप्त किया। उन्होंने पोलैंड के सिटी बियस्‍को बियाला (Bielsko Bial) में स्‍ट्रीजलिंका गन क्‍लब से अन्‍य मेस्‍टोरियस से 17 अलग-अलग हैंडगन, राइफल और शॉटगन की तकनीक में भी महारत हासिल की।

Next Post

अवैध टिकट को लेकर आरपीएफ ने की छापेमारी

Tue Jan 12 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it अवैध टिकट को लेकर आरपीएफ ने की छापेमारी प्रमोद कुमार मोतिहारी   :   आरपीएफ […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links