बाढ़ पीड़ित पशुपालकों के बीच पशु आहार’ का वितरणआपदा के समय पशुओं का ख्याल रखें-अवधेश कुमार गुप्ता

बाढ़ पीड़ित पशुपालकों के बीच पशु आहार’ का वितरणआपदा के समय पशुओं का ख्याल रखें-अवधेश कुमार गुप्ता

प्रमोद कुमार

मोतिहारी  :  प्रखण्ड सुगौली के बाढ़ पीड़ित कैंप के नजदीक, जिला पशुपालन पदाधिकारी श्री अरुण कुमार सिंह के निर्देश पर, बाढ़ पीड़ित पशुपालकों के बीच पशुचारा आहार ‘भूसा’ का वितरण किया गया। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रभारी डॉक्टर श्री ओमप्रकाश प्रसाद ने किया। जिलाधिकारी के द्वारा दिये निर्देश के आलोक में पशु टिकाकर्मी सह पीएलवी अवधेश कुमार गुप्ता ने भूसा ले रहे पशुपालकों से सामाजिक दूरी बनाए रखने का अनुरोध किया, ताकि कोविड19 से सम्बंधित प्रोटोकॉल का पालन हो सके। बाढ़ पीड़ितों के सहयोग में लगे टिकाकर्मी सह पीएलवी अवधेश कुमार गुप्ता ने उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि यह भूसा वितरण कार्यक्रम का आयोजन बाढ़ पीड़ितों के लिए किया गया है, ताकि सुगौली क्षेत्र के बाढ़ पीड़ित पशुपालकों को लाभ मिल सके। टिकाकर्मी सह पीएलवी अवधेश कुमार गुप्ता ने पशुपालकों से कहा कि बाढ़ आने पर पालतू जानवरों पर विशेष ध्यान रखें तथा उन्हें ऊँची व सुरक्षित स्थानों पर ले जाये एवं पशुओं के लिये समुचित पशु आहार की व्यवस्था पहले से कर ले। साथ ही उन्होंने कहा कि बाढ़ एक प्राकृतिक आपदा हैं, इससे निपटने के लिए हम सभी को एकजुट रहकर, एक दूसरे की मदद करने की आवश्यकता है। बाढ़ के समय में अपने परिवार के साथ, छोटे छोटे बच्चों पर विशेष ध्यान रखें। सूखे भोजन पदार्थ, कपड़े, दवा तथा पेयजल की व्यवस्था कर लेनी चाहिये क्योंकि आपदा आने पर सबसे ज्यादा बच्चे प्रभावित होते हैं। इसलिए बाढ़ आपदा के समय बच्चों पर भी ज्यादा ध्यान रखें, उन्हें पानी से दूर रखें तथा उनकी देख भाल करें। इस मौके पर पशुधन सहाय श्री उमेश ठाकुर, डाटा ऑपरेटर राजेन्द्र कुमार, टिकाकर्मी रणधीर कुमार, मनोहर पीड़ित, रामचंद्र पीड़ित, अमजद हुसैन, सत्रुधन साह, नवनीत कुमार, प्रवीण कुमार, सुमन कुमार, पंडित राजेश मिश्र इत्यादि सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Next Post

अंतरराष्ट्रीय फिल्म‌ फेस्टिवल में लहलादपुर के अभिषेक की फिल्म चयनित

Sat Aug 1 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it अंतरराष्ट्रीय फिल्म‌ फेस्टिवल में लहलादपुर के अभिषेक की फिल्म चयनित मनोज कुमार लहलादपुर […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links