सारण में लूट डकैती के 156 मामले लंबित कारवाई का सख्त निर्देश

सारण में लूट डकैती के 156 मामले लंबित कारवाई का सख्त निर्देश

सत्येन्द्र कुमार शर्मा, सारण :
लूट व डकैती के कांडों की डीआईजी मनु महाराज द्वारा समीक्षा किया गया है और वे बोले है कि टीम गठित कर अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई करें।
सारण रेंज के डीआईजी कार्यालय में शुक्रवार को वर्ष 2020 से लेकर 2021 के जून माह तक के डकैती और लूट कांडों की समीक्षा की गईं हैं। डीआईजी मनु महाराज ने बताया है कि सारण जिले में लूट और डकैती के 156 मामले लंबित हैं। सबसे अधिक सदर अनुमंडल में 88 मामले , सोनपुर में 38 तथा मढौरा अनुमंडल में 29 कांड लंबित हैं। उन्होंने सभी अनुसंधानकर्ताओं को निर्देश दिया है कि जिस काड में उद्भेदन हो गया है, उसमें जो बचे अपराधी हैं उनके खिलाफ कार्रवाई करें और जिसमें उद्भेदन नहीं हुआ है, उसे शीघ्र उद्भेदन कर टीम गठित कर अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई कर उन्हें जेल भेजें। डीआईजी ने बताया कि वैसे आईओ जिनका स्थानांतरण दूसरे जिले में हो गया है या अन्य स्थान पर हैं वे तत्काल लंबित कांडों का प्रभार पुलिस पदाधिकारी को सौंप दें। डीआईजी ने बताया है कि लूट, डकैती और बलात्कार के जितने भी कांड है उसे लेकर हर हाल में अनुसंधानकर्ता कोर्ट में आरोप पत्र समर्पित करें। उन्होंने बताया कि बालू और शराब के कारोबार करने वालों पर पुलिस अपनी निगाह रख रही है। उन्होंने शराब और बालू के कारोबारियों पर संबंधित थाने के पुलिस पदाधिकारियों को सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। उन्होंने बताया है कि वे लगातार इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं। हर हाल में लंबित कांडों की समीक्षा करने के बाद जांचकर्ता पदाधिकारी बहुत जल्द कांडों की डिस्पोजल करें। उन्होंने कहा कि थाना अध्यक्ष अपराधियों पर कानूनी कार्रवाई करते रहें। समीक्षा बैठक में सोनपुर अपर पुलिस अधीक्षक अंजनी कुमार, मढौरा अनुमंडल के पुलिस पदाधिकारी इंद्रजीत बैठा , सोनपुर थाना अध्यक्ष वकील अहमद , डीआईजी कार्यालय के एसपी एडमिन, महिला सब इंस्पेक्टर विभा रानी आदि पुलिस पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Next Post

छपरा रेल कर्मी के करेंट लगने से मौत पत्नी बच्चे घायल

Sat Jul 17 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it छपरा रेल कर्मी के करेंट लगने से मौत पत्नी बच्चे घायल सत्येन्द्र कुमार […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links