18वीं कार्यकारी परिषद् की बैठक हुआ आयोजित

18वीं कार्यकारी परिषद् की बैठक हुआ आयोजित

प्रमोद कुमार
मोतिहारीlपु०च०

महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय, डॉ. अंबेडकर प्रशासनिक भवन, निकट ओ.पी.थाना, रघुनाथपुर, मोतिहारी में 18वीं कार्यकारी परिषद् की बैठक आयोजित की गयी। प्रस्तुत बैठक की अध्यक्षता प्रो. संजीव कुमार शर्मा, पदेन सभापति एवं कुलपति महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय ने की। कार्यकारी परिषद् के अन्य सदस्यों में मानव संसाधन विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव सदस्य डॉ. चंद्रशेखर कुमार, संयुक्त सचिव यू.जी.सी, जितेंद्र कुमार त्रिपाठी, श्रीमति (डॉ) किरण घई सिन्हा, (सेवानिवृत्त प्रोफेसर) पटना वुमेंस कॉलेज, पटना एवं डॉ. ब्रजेश कुमार, राँची विश्वविद्यालय, राँची, बिहार एवं विश्वविद्यालय के सदस्यों में प्रो. आनंद प्रकाश एवं प्रो. अजय कुमार गुप्ता, प्रो. अर्तत्राण पाल, डॉ. शिरिष मिश्र, डॉ. दिनेश व्यास, और विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में प्रो. विकास पारीक और पदेन सचिव, प्रो. पद्माकर मिश्र उपस्थित थे।
प्रस्तुत बैठक की कार्यसूची में निम्नलिखित बिन्दूवार निर्णय लिए गए।डॉ. कनक शर्मा, सहायक प्राध्यापकस शिक्षा संकाय, महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यलायस को राजस्थान केन्द्रीय विश्वविद्यालय के शिक्षा विभाग में सेवा प्रदान करने हेतु शिक्षा संकाय से उन्हें कार्यमुक्त करने के निर्णय को कार्यकारी परिषद् ने अनुमोदित कर दिया। 8 वीं वित्त समिति की बैठक के निर्णय को कार्यकारी परिषद् ने अपना अनुमोदन प्रदान किया मई में योजित छठवीं शैक्षणिक परिषद् की बैठक के अनुशंसा/निर्णयों को कार्यकारी परिषद् नें अनुमोदित किया।इसी माह जून में आयोजित तीसरी योजना एवं अनुवीक्षण बोर्ड की बैठक के निर्णयों को भी कार्यकारी परिषद् ने अनुमोदित किया प्रो. जी.गोपाल रेड्डी, माननीय भूतपुर्व सदस्य, विश्वविद्यालय अनुदान आयोग, नई-दिल्ली एवं आचार्य, ओस्मानिया विश्वविद्यालय, हैदराबाद को महात्मा गाँधी केन्द्रीय विश्वविद्यालय के प्रति-कुलपति के रूप में नियुक्त किया गया।बैठक की कार्यवाही सभापति को धन्यवाद ज्ञापन करते हुए राष्ट्रज्ञान के साथ संपन्न हुई।

Next Post

सामाजिक समरसता का मूल संस्कृत के योगशास्त्र में अन्तर्निहित है- प्रो. मानस

Wed Jul 1 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it सामाजिक समरसता का मूल संस्कृत के योगशास्त्र में अन्तर्निहित है- प्रो. मानस प्रमोद […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links