बर्ड फ्लू का खतरा राज्य में एहतियातन अलर्ट जारी

बर्ड फ्लू का खतरा राज्य में एहतियातन अलर्ट जारी

सत्येन्द्र कुमार शर्मा

बिहार में मंडराया बर्ड फ्लू का खतरा, दूसरे प्रदेशों में फैल रही बीमारी के चलते सरकार ने अलर्ट जारी किया है।
बिहार सरकार ने दूसरे प्रदेशों में बर्ड फ्लू फैलने की सूचना मिलते ही इसको लेकर प्रदेश में अलर्ट जारी किया है। पशु एवं मत्स्य संसाधन विभाग ने सभी जिलों के पशुपालन पदाधिकारियों को ऐहतियातन सभी तैयारी रखने और सचेत रहने का निर्देश दिया है। जिलों को यह भी निर्देश दिया गया है कि कहीं से भी ऐसी कोई सूचना प्राप्त होती है तो तत्काल विभाग को बताएं और आवश्यक कदम उठाएं। विभाग ने कहा है कि बिहार में कहीं से भी इसकी कोई सूचना नहीं है, पर ऐहतियातन अलर्ट जारी किया गया है।

ज्ञात हो इससे पहले केरल में बर्ड फ्लू के H5N8 स्वरूप (स्ट्रेन) को नियंत्रित करने के लिए मुर्गे-मुर्गियों और बत्तखों को मंगलवार से मारना शुरू कर दिया गया है। जबकि हिमाचल प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश में फ्लू के मामले रिपोर्ट होने के बाद जम्मू कश्मीर ने अलर्ट घोषित करते हुए और प्रवासी पक्षियों के नमूने लेने शुरू कर दिए हैं। केरल में पक्षियों के संक्रामक रोग के प्रकोप के बाद पड़ोसी कर्नाटक और तमिलनाडु ने निगरानी बढ़ा दी है और दिशा-निर्देश जारी किए हैं। केरल में फ्लू के कारण करीब 1700 बत्तखों की मौत हो चुकी है।

मध्य प्रदेश के अधिकारियों ने बताया कि इंदौर के रेसीडेंसी क्षेत्र में 8 दिन पहले मृत कौओं में बर्ड फ्लू के H5N8 वायरस की पुष्टि होने के बाद अब तक शहर में इसी प्रजाति के 155 पक्षी मरे पाए गए हैं। राजस्थान में झालावाड़ के बाद कोटा और बारां के पक्षियों में भी संक्रमण पाया गया है। महाराष्ट्र में बर्ड फ्लू का कोई मामला अब तक सामने नहीं आया है। महाराष्ट्र की सीमा मध्य प्रदेश की सीमा से लगी हुई है।

Next Post

देशी शराब एवं पाउच बरामद

Thu Jan 7 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it देशी शराब एवं पाउच बरामद गजेन्द्र कुमार दरियापुर, बुधवार 06 जनवरी :डेरनी पुलिस […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links