65वीं वाहिनीं सशस्त्र सीमा बल ने अंतरराष्ट्रीय मद्य एवं अवैध तस्करी निषेध दिवस के अवसर पर किया वृक्षारोपण

65वीं वाहिनीं सशस्त्र सीमा बल ने अंतरराष्ट्रीय मद्य एवं अवैध तस्करी निषेध दिवस के अवसर पर किया वृक्षारोपण

दिवाकर कुमार

बगहा(26/06/2020)65वीं वाहिनीं सशस्त्र सीमा बल बेतिया बगहा में अंतरराष्ट्रीय मद्य एवं अवैध तस्करी निषेध दिवस के अवसर पर मुख्यालय एवं सभी समवाय सीमा चौकी एवं बाल्मीकि व्याघ्र आरक्ष्य में 1050 फलदार और छायादार पौधे लगाए गए। मुख्यालय में इस अवसर पर 65वीं वाहिनी सशस्त्र सीमा बल बेतिया बगहा शिविर में उप कमांडेंट/कार्यवाहक कमांडेंट अरविंद कुमार चौधरी ने जवानों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में युवाओं में तेजी से फैल रहे ड्रग्स की लत के बारे में तथा इससे होने वाले नुकसान के बारे में बताएं। कोविड-19 की वजह से सभी युवा वर्ग को सिख मिली कि नशा शरीर के लिए बहुत हानिकारक होता हैं।उप कमांडेंट/कार्यवाहक कमांडेंट श्री चौधरी ने कोरोना और नशे का तालमेल के बारे में बताया कि नशा मनुष्य को नाश और बेकार कर देता हैं।आपको अपने परिवार,समाज और देश को इससे बचाना होगा। नशा एक ऐसी बीमारी बन चुकी हैं।हमारे समाज को तथा हमारे देश को इससे बचाना हैं। नशा एक ऐसी बीमारी बन चुकी हैं।हमारे समाज को तथा हमारे देश को तेजी से निकल रही हैं।चाहे शहर हो या गांव हो हर जगह आज पढ़ने-लिखने की उम्र में लड़के-लड़कियां नशे की आदि हो चुके हैं।बुद्ध कहते हैं कि मदिरापान महाहिंसा हैं।वर्तमान में नशे के कई रूप प्रचलित हैं। जैसे कि गुटखा,शराब,अफीम,चरस,गांजा जिनसे देश की जड़ें कमजोर होती हैं। नशा रोकने हेतु सरकार को सकारात्मक नीतियां बनानी चाहिए। नशा इंसान के शरीर को अंदर से खोखला कर देती हैं तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी छीन कर देती हैं।इंसान इसका आजीवन आदि बन जाता हैं तथा इससे इंसान का शारीरिक आर्थिक नैतिक पतन हो जाता हैं।इस मौके पर नशीली पदार्थ के बारे में चित्र प्रतियोगिता ऑनलाइन का आयोजन किया गया।इसमें संदीक्षा सदस्यों ने एवं कर्मिकों ने भाग लिया मौके पर सहायक कमांडेंट सम्राट दिव्यजीत चन्द्रजीत,निरीक्षक/सामान्य मुकेश खटूम्बनिया,सहायक उप निरीक्षक/सामान्य रोशन लाल ठाकुर एवं मीडिया प्रभारी तुषार पवार सहित तमाम एसएसबी के जवान मौजूद रहे।

Next Post

बगहा: विद्यालय में हुआ पौधारोपण

Sat Jun 27 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it बगहा: विद्यालय में हुआ पौधारोपण दिवाकर/सुनील बगहा ( 26/6/2020)पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देने […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links