केंसर पीड़ित शफी को सांसद रुड़ी के पहल से 80 हजार रूपए स्वीकृत

केंसर पीड़ित शफी को सांसद रुड़ी के पहल से 80 हजार रूपए स्वीकृत

सत्येन्द्र कुमार शर्मा

रिविलगंज 22 फरवरी : सारण के सांसद सह भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव प्रताप रूडी के अनुशंसा पर मोहम्मद शफी आलम,पिता- मोहम्मद मेराज मुकरेरा पंचायत के जलालपुर अहमद रज्जा कॉलोनी जो पैर में कैंसर रोग से ग्रसित है,उनका इलाज पटना के अखिल भारतीय आयुर्बिज्ञान संस्थान में चल रहा है उनके इलाज के लिये 80 हजार रुपया का मुख्यमंत्री सहायता कोष से स्वीकृत कराया गया है। सांसद राजीव प्रताप रूडी के निर्देश पर बिहार भाजपा के क्रीड़ा प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय प्रभारी धर्मेन्द्र सिंह चौहान के नेतृत्व में एक शिष्टमंडल जिसमे पूर्व जिला भाजयुमो अध्यक्ष गामा सिंह,रिविलगंज मंडल उपाध्यक्ष संजय तिवारी वारसी,सुशांत सिंह, महामंत्री बिनोद सिंह,छपरा नगर भाजपा महामंत्री अजय साह एवं श्याम मुरारी पीड़ित के घर जाकर पीड़ित शफी आलम के हाथ में स्वीकृति पत्र दिया।

पीड़ित के परिवार वालो ने सांसद राजीव प्रताप रूडी को इस नेक कार्य के लिये आभार प्रकट करते हुए कहा कि सांसद कंट्रोल रूम से बहुत सहायता मिलती है। क्रीड़ा प्रकोष्ठ के क्षेत्रिय प्रभारी धर्मेन्द्र सिंह चौहान ने कहा स्वास्थ्य के प्रति इतना जागरूक है कि पूरे जिले में खासकर देहात इलाके में एम्बुलेंस की 24 घंटा सुविधा प्रदान किया है । यहाँ तक कि सिताबदियारा ,प्रभूनाथ नगर दक्षिणवारी चक्की पंचायत में सांसद द्वारा एम्बुलेंस प्रदान किया गया है , यहा रात को आने जाने की दिक्कत को छोड़िये दिन में भी इन दोनों पंचायत में आना जाना कठिन है। खासकर कोविड 19 कोरोना के दौरान लॉक डाउन में सांसद एम्बुलेंस और सांसद कंट्रोल रूम से जनता को सेवा मिला है जनता के लिये राम बान साबित हुआ है,कोविड 19 कोरोना में सारा एम्बुलेंस बन्द हो गया था लेकिन सांसद एम्बुलेंस एवं कंट्रोल रूम एक दिन भी बंद नही हुआ।

Next Post

जन संवाद संगोष्ठी पुलिस एवं समाजसेवी द्वारा आयोजित

Tue Feb 23 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it जन संवाद संगोष्ठी पुलिस एवं समाजसेवी द्वारा आयोजित सत्येन्द्र कुमार शर्मा आज बिहार […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links