कलाकार की मौत पर चाहने वालों ने चाहने वालों ने फूंका कलाकार का पुतला

कलाकार की मौत पर चाहने वालों ने चाहने वालों ने फूंका कलाकार का पुतला

प्रमोद कुमार

मोतिहारी : अभाविप पूर्वी चंपारण के जिला संयोजक अभिषेक आर्यन ने बताया कि रिपोर्ट के मुताबिक सुशांत की आत्महत्या के खिलाफ युवाओं ने प्रदर्शन किया और आरोप लगाया कि इंडस्ट्री में भेदभाव के चलते सुशांत ने अपनी जान दी है और इस मामले को जांच करने की मांग की। अभाविप के कार्यकर्ता गोपी सिंह भारद्वाज ने बताया कि – करण जौहर, आलिया और सलमान पर आरोप सुशांत की मौत के बाद से ही सोशल मीडिया पर उनके फैंस और दूसरे लोग बॉलीवुड में नेपोटिज्म का मुद्दा उठा रहे हैं। सुशांत के प्रशंसकों ने करण जौहर, सलमान खान, आलिया भट्ट और सोनम कपूर जैसे इंडस्ट्री के तमाम लोगों पर नेपोटिज्म को बढ़ावा देने का आरोप लगाया और इसके खिलाफ अपना गुस्सा जाहिर कर रहे हैं।मुन्ना सिंह राजपूत व अविनाश पांडे ने बताया कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से पूरे देशभर में आक्रोश देखा जा रहा है खासतौर से बिहार के हर जिले में लोग उनकी मौत की सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं सुशांत बिहार के पटना से ही थे ।मानिकपुर में सैकड़ों लोग मंगलवार को इस मांग को लेकर सड़क पर उतर आए। सड़क पर सैकड़ों युवाओं ने बॉलीवुड और प्रोड्यूसर करण जौहर का पुतला फूंक आक्रोश व्यक्त किया। युवाओं का नेतृत्व कर रहे अजित गौतम ने कहा कि सुशांत सिंह राजपूत के मौत के पीछे बॉलीवुड में चल रही गुटबाजी जिम्मेदार है। आक्रोश मार्च में युवाओं ने जमकर बॉलीवुड में बढ़ रही भाई-भतीजावाद, गुटबाजी, नए अभिनेता के साथ दुर्व्यवहार को लेकर करण जौहर, सलमान खान आदि के खिलाफ नारेबाजी कर पुतला दहन किया।
मौके पर उपस्थित- निखिल सिंह,रंजीत गुप्ता,पिंटू सिंह , आलोक कुमार सौरभ पांडे भरत प्रसाद,नीतीश कुमार,विवेक राजपूत,रामकिशोर शर्मा , अमरेन्द्र शर्मा, शहाबुद्दीन अंसारी आदि उपस्थित थे।

Next Post

टीवी न्यूज पैकेजिंग एंड स्क्रिप्टिंग विषय पर राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का होगा आयोजन

Wed Jun 24 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it टीवी न्यूज पैकेजिंग एंड स्क्रिप्टिंग विषय पर राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का होगा आयोजन […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links