प्रशासनिक स्तर पर ,विश्व ऑटिज्म दिवस के उपलक्ष्य पर निकाली गई प्रभातफेरी- सुभाषणी प्रसाद

प्रशासनिक स्तर पर ,विश्व ऑटिज्म दिवस के उपलक्ष्य पर निकाली गई प्रभातफेरी- सुभाषणी प्रसाद

शहाबुद्दीन अहमद

बेतिया  :   विश्व ऑटिज्म दिवस के अवसर पर ,जिला स्तर पर ,प्रभातफेरी निकाली गई। अनुमंडल पदाधिकारी बेतिया, विद्यानाथ पासवान और वरीय उप समाहर्ता -सह- सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा कोषांग, सुभाषिणी प्रसाद ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाकर प्रभातफेरी को समाहरणालय परिसर बेतिया से रवाना किये। वरीय उप समाहर्ता, सुभाषणी प्रसाद ने बताया कि प्रभातफेरी समाहरणालय परिसर से निकलकर जनता सिनेमा चौक, रेडक्रॉस भवन, पावर हाउस होते हुए नगर भवन बेतिया में पहुँची। जहां पर अनुमंडल पदाधिकारी ने प्रभातफेरी में शामिल छात्राओं और लोगों को संबोधित करते हुए ऑटिज़्म के बारे में विस्तार से बताया। वही कार्यक्रम की आयोजक, वरीय उप समाहर्ता -सह- सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा कोषांग, सुभाषिणी प्रसाद ने बताया कि लोगों को जागरूक बनाने के लिए यह प्रभातफेरी निकाली गई। प्रत्येक वर्ष 2 अप्रैल को विश्व ऑटिज्म जागरूकता दिवस मनाया जाता है। इस दिन उन बच्‍चों और बड़ों के जीवन में सुधार के कदम उठाए जाते हैं, जो ऑटिज़्म ग्रस्‍त होते हैं ,और उन्‍हें सार्थक जीवन बिताने में सहायता दी जाती है। ऑटिज़्म या आत्मविमोह एक मानसिक रोग या मस्तिष्क के विकास के दौरान होने वाला विकार है, जिसके लक्षण जन्म से या बाल्यावस्था (प्रथम तीन वर्षों में) में ही नज़र आने लगते है, और व्यक्ति की सामाजिक कुशलता और संप्रेषण क्षमता पर विपरीत प्रभाव डालता है। प्रभातफेरी, रैली, नुक्कड़ नाटक आदि के माध्यम से लोगों को ऑटिज्म के प्रति जागरूक बनाने का प्रयास किया जाता है। प्रभातफेरी में एन०सी०सी०और गाइड की लगभग पचास छात्रा, बुनियाद केंद्र के सदस्यगण और समाहरणालय के कर्मी शामिल हुए। प्रभातफेरी को सफल बनाने में राज संपोषित कन्या विद्यालय, बेतिया की शारीरिक शिक्षिका, सह एन० सी० सी० ऑफिसर, शमीम आरा और गाइड की जिला आयुक्त, वंदना कुमारी सहित जिला कार्यालय के सदस्यों का महती योगदान रहा।

Next Post

बेतिया जीएमसीएच के तीन डॉक्टरों पर करवाई की गाज गिरना हुआ तय:-- जिला पदाधिकारी

Sat Apr 3 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it बेतिया जीएमसीएच के तीन डॉक्टरों पर करवाई की गाज गिरना हुआ तय:– जिला […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links