बबीता ने टीका के प्रति मन की बेरुखी दूर किया

बबीता ने टीका के प्रति मन की बेरुखी दूर कियाTV

 

शिवहर
कोरोना काल में आशा कार्यकर्ता बबीता देवी मजबूत हौसलों के साथ अपने फर्ज को निभा रहीं हैं। तमाम परेशानियों के बीच बबीता बेखौफ होकर गांव में वैक्सीन के लिए लोगों को जागरूक कर रहीं हैं। वहीं टीकाकरण के लिए महिलाओं की भागेदारी को भी बढ़ाने में बबीता देवी लगी हैं। जिसमें उन्हें कामयाबी मिली है। उनके प्रयासों का असर अब उनके पोषण क्षेत्र के लोगों के बीच दिखने लगा है। लोग टीका लगवाने के लिए केंद्र पर पहुंच रहे हैं। बबीता देवी ने बताया कि वो निरंतर कोरोना काल में ड्यूटी कर रही हैं। सर्वे का काम हो या कांटेक्ट ट्रेसिंग, सभी काम अपनों की सुरक्षा के लिए किया है। आज इस वायरस से लड़ने के लिए वैक्सीन के रूप में कारगर हथियार है। इसलिये वैक्सीन मेरे क्षेत्र के सभी व्यक्तियों तक पहुंचाना मेरी जिम्मेदारी है। बबीता देवी बताती हैं कि वो घर-घर जाकर लोगों को टीका लेने के लिए समझा रही हैं। साथ ही नजदीकी टीकाकरण केन्द्र पर टीका लगवाने का न्योता दे रही हैं। स्वयं टीका लगवाने का उदाहरण देकर लोगों को इससे सुरक्षित होने और टीका लगवाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। लोग प्रतिदिन टीकाकरण के लिए आ रहे हैं। बबीता देवी ने बताया कि उनके प्रयास से लोगों में जागरूकता आयी है। इसी का नतीजा है कि उनके पोषण क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने टीकाकरण कराया। पुरुष के साथ महिलाएं भी टीका लेने के लिए घर से निकल रहीं हैं। पिपराढी प्रखंड के विभिन्न पंचायतों में सोमवार को मेगा कैम्प अयोजित कर लोगों को टीका लगाया गया। इसके लिए कई टीमों को लगया गया था। मध्य विद्यालय परसौनी बैज, मध्य विद्यालय देकुली धर्मपुर, उप स्वास्थ्य केंद्र पिपराही, पंचायत भवन धनकौल सहित कई केंद्रों पर टीकाकरण किया गया। इन केंद्रों पर अनुमंडल पदाधिकारी मोहम्मद इश्तियाक अली अंसारी ने निरीक्षण कर आवश्यक दिशा निर्देश दिया है। सिविल सर्जन डॉ राजदेव प्रसाद सिंह ने बताया कि कोरोना टीकाकरण अभियान को तेज गति से चलाया जा रहा है।  जिससे शत-प्रतिशत टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा किया जा सके।

Next Post

सदर अस्पताल में तंबाकू उत्पादों के इस्तेमाल करने वालीं एक महिला समेत अन्य का कटा चालान

Mon Jul 19 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it सदर अस्पताल में तंबाकू उत्पादों के इस्तेमाल करने वालीं एक महिला समेत अन्य […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links