बगहा: रमजान के पहले रोजे में घरों में रहकर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने किया अल्लाह की इबादत व इफ्तार

बगहा: रमजान के पहले रोजे में घरों में रहकर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने किया अल्लाह की इबादत व इफ्तार

शादमान/दिवाकर

बगहा (25/04/2020): रमजान के पहले दिन बगहा में इमाम मौलाना के कहने पर लोगों ने घर में रहकर अल्लाह की इबादत किये। मुस्लिम समुदाय के लोगों ने पहले दिन सुबह में सेहरी खाकर दिन भर रोजा रखा और शाम के वक्त लोगों ने इफ्तार किया। रमजान को लेकर लोगों में खासा खुशी देखने को मिली। वहीलॉक डाउन 2 को लेकर मस्जिदों ना जाकर अपने घरों पर ही रहकर इबादत की गई।सोशल डिस्टेंसिग का विशेष ध्यान रखा गया।मुफ्ती गयासुद्दीन कासमी ने कहा कि रमजान का महीना हमारे लिए पाक दिन है। इसमें घरों में रहकर कुरान,नमाज की तिलावत करें साथ ही लोगों से अपील की गई कि वैसे गरीब परिवार की पहचान कर लोगों की मदद करें। जिन परिवारों के द्वारा 30 दिन के इस रोजे को पूरे करेंने के लिए राशन नहीं है । उनके घरों पर सेहरी और इफ्तार के लिए राशन आदि की मदद अमीर व बड़े लोगों को करने को कहा । वही रमजान के शुरू होने पर कई घरों में लोगों ने इबादत व इफ्तार किया। जिसमें बगहा बाजार,रतन माला,मस्तान टोला,डूमवालिया,पटखौली आदि जगह के लोगों ने घरों पर रहकर इबादत और इफ्तार किया। वही कोरोना वायरस को लेकर सभी लोगों ने दुआ कि इस बीमारी से हम सभी लोग को निजात मिले। नगर के लोगों में फिरोज अहमद सभापति पति, मोहम्मद इमरान, मोहम्मद नन्हे, लालबाबू, अब्दुल गफूर, मोहम्मद सद्दाम, मोहम्मद अख्तर, मोहम्मद सलीम आदियो ने रमजान में इबादत व इफ्तार किया।

Next Post

बगहा: पीडीएस दुकादार द्वारा भारी अनियमितता बरते जाने पर हुई प्राथमिकी दर्ज 

Sat Apr 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it बगहा: पीडीएस दुकादार द्वारा भारी अनियमितता बरते जाने पर हुई प्राथमिकी दर्ज  शादमान/ […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links