भोजपुरी फ़िल्म ‘स्नेहिया के खेल’ से अभिनेता पंकज मेहता को हैं बहुत सारी उम्मीदें

भोजपुरी फ़िल्म ‘स्नेहिया के खेल’ से अभिनेता पंकज मेहता को हैं बहुत सारी उम्मीदें

आर के सिने एंटरटेनमेंट के बैनर तले बन रही भोजपुरी फ़िल्म ‘स्नेहिया के खेल’ से फ़िल्म के लीड अभिनेता पंकज मेहता को बहुत सारी उम्मीदें हैं। इस फ़िल्म की शूटिंग इन दिनों उत्तर प्रदेश में जोर शोर से चल रही है, जहां पंकज मेहता अपने किरदार के लिए जी तोड़ मेहनत भी कर रहे हैं। पंकज ने फ़िल्म की शूटिंग शुरू होने से पहले भी बड़ी तैयारियां कर चुके हैं।

पंकज कहते हैं कि कैमरे की नज़र में किसी और के किरदार को जीना आसान नहीं होता। लेकिन बतौर एक्टर हमारा यही काम है और इसलिए हम अपनी भूमिका से न्याय कर पाएं, इसके लिए सजग रहते हैं। फ़िल्म ‘स्नेहिया के खेल’ में भी मेरा किरदार बेहद अहम है, जिस पर मैं फोकस कर रहा हूँ। उम्मीद है दर्शक मेरे अभिनय से निराश नहीं होंगे, क्योंकि जितनी अच्छी फिल्म की पटकथा है – उस हिसाब से अपना बेस्ट देने की मेरी पूरी कोशिश है। मैं बस भोजपुरी के दर्शकों से अंत में यही कहूंगा कि फ़िल्म पारिवारिक है। जब यह रिलीज हो तब आ जरूर सबों के साथ फ़िल्म देखने जाएं।

आपको बता दें कि पंकज मेहता – किसना कइलस कमाल, धूम मचैला राजा जी, ये ईश्क बड़ा बेदर्दी है, ज़िद्दी आशिक, तू ही तो मेरी जान है राधा, हम बदला लेंगे, प्यार के रंग लाल होला में नज़र आ चुके हैं और अब उनकी आने वाली फिल्में सरफ़रोश, ड्राइवर बाबु इलू इलू और माँ बाबु जी के आशीर्वाद है। इसके अलावा अभी वे फ़िल्म ‘स्नेहिया के खेल’ की शूटिंग कर रहे हैं, जिसके निर्माता लक्षण आर पांडेय हैं। निर्देशक अमरेंद्र कुमार हैं। रायटर ब्रह्मानंद पांडेय हैं। फ़िल्म में पंकज मेहता के अलावा नीलम दुबे, मीरा भारती, संतोष श्रीवास्तव, तनीषा गुप्ता, पंकज यादव, अन्नू ओझा, ओमप्रकाश ओम, गरिमा जी और अवधेश दुबे मुख्य भूमिका में हैं।

Next Post

श्रद्धा व हर्षोल्लास के साथ मनाई गई सरस्वती पूजा

Wed Feb 17 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it श्रद्धा व हर्षोल्लास के साथ मनाई गई सरस्वती पूजा पताही 16 फरवरी : […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links