आएं विश्व मास्क सप्ताह मनाएं, मास्क से कोरोना को बाहर का रास्ता दिखाएं

आएं विश्व मास्क सप्ताह मनाएं, मास्क से कोरोना को बाहर का रास्ता दिखाएं

मोतीहारी।पु.च
कोविड से बचाव में मास्क को सबसे सुरक्षित और कारगर उपाय के तौर पर देखा गया है। वहीं इसने कोविड की  प्रत्येक लहर में इसने अपनी उपयोगिता भी सिद्ध की है। तभी तो विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) और अन्य सरकारों ने भी इसे लोगों के लिए अनिवार्य कर दिया है। डब्लूएचओ के अनुसार इस सप्ताह हम विश्व मास्क सप्ताह मना रहे हैं। जिसको लेकर  डब्लूएचओ ने अपने सोशल मीडिया पर एक पोस्टर भी जारी किया है। इसमें वह मास्क की उपयोगिता , प्रकार एवं रख रखाव पर विस्तार से चर्चा कर रहा है। जिसमें वह बच्चों के मास्क संबंधी बातों को बता रहा है, जिसे बच्चे अमल में लाकर कोविड जैसी गंभीर संक्रमण से बच सकते हैं।डब्लूएचओ पोस्टर में कहता है कि बच्चों में भी मास्क पहनने के लिए नियम बड़ों  जैसा ही है, पर उनमें कुछ विशेष सतर्कता की जरूरत होती है। मास्क को पहनने के लिए सबसे पहले तीन लेयर वाले मास्क का प्रयोग करना है। मास्क को पहनने से पहले हाथ को अच्छे से धोएं। मास्क के आंतरिक भाग को पहचान उससे नाक और ठुड्डी अच्छी तरह ढकें । बच्चे मास्क के आगे के भाग को न छूएं। वहीं मास्क उतारने से पहले  ब बाद में हाथ को अच्छी तरह धो लें। मास्क को उतारने के बाद अच्छी तरह धो लें। सिविल सर्जन डॉ अंजनी कुमार का कहना है कि जो लोग गले में मास्क लटकाकर टहल रहे हैं। वे बीमारी को दावत दे रहे हैं। यही हाल रहा तो ऐसे लोग संक्रमण की चपेट में आएंगे। इसलिए जब भी बाहर निकलें मास्क को सही तरीके से लगा लें, ताकि नाक और मुंह पूरी तरह से ढके हों। कोरोना वायरस हवा में है, यह डब्लूएचओ के शोध में आ भी चुका है।  उसमें सावधानी बेहद जरूरी है। भीड़ वाली जगह ङमें जाना मजबूरी हो तो मास्क को अच्छी तरह से मुंह पर लगा लें। इस दौरान यह ध्यान रखें कि मुंह और नाक दोनों ढके हों। बात करते समय मास्क को हटाकर गले में ना लटकाएं। इससे दूसरे हिस्से पर वायरस आ सकता है और जब उसे दोबारा आप मुंह पर रखेंगे तो वायरस अंदर जा सकता है।

Next Post

व्यवसायिक संघ ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मेडिकल टीम को कोरोना टीकाकरण के लिए धन्यवाद

Wed Jul 21 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it व्यवसायिक संघ ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मेडिकल टीम को कोरोना टीकाकरण के लिए […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links