योग्य पिता के योग्य संतान लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण

योग्य पिता के योग्य संतान लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण

सत्येन्द्र कुमार शर्मा,

लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण स्वर्गीय श्री रामदत्त पाण्डेय, पूर्व आईएएस अधिकारी एवं स्वर्गीय श्रीमती शांति पाण्डेय के घर जन्म लिए। लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण का विवाह 08 मई 1984 को श्री जनार्दन प्रसाद सिंह, पूर्व अधीक्षक, केन्द्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड एवं श्रीमती उर्मिला सिंह की पुत्री बिभा कृष्ण के साथ हुई। लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण के भाई विजय कृष्ण पांडेय वायु सेना के एयर मार्शल के पद से अवकाश ग्रहण किए हैं! लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण सेंट जेवियर्स हाई स्कूल , पटना के छात्र रहे हैं। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खडकवासला और भारतीय सैन्य अकादमी , देहरादून में भी अध्ययन किए हैं।
सारण जिले के लाल धवरी गांव निवासी लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण 2017 में डोकलाम सैन्य प्रकरण के दौरान भारत के पूर्वी कमान के प्रमुख की कमान संभालने वाले जनरल अधिकारी रहे हैं। लेफ्टिनेंट जनरल कृष्णा ने पहले चीन की आक्रामकता का विनम्रता से हस्तक्षेप किया था। लेकिन जब देखा कि चीन का जुझारूपन बढ़ता जा रहा है, तब अपने बेजोड़ संकल्प को व्यक्त करने के लिए टैंकों और तोपों को ऊपर ले जाने का फैसला किया| गौरतलब है कि दो महीने के गतिरोध के बाद भारत ने 73 दिन बाद चीन को घुटनों पर ला दिया था और चीन आखिरकार सीमा से दूर अपने पारंपरिक गश्त बिंदु पर पीछे हट गया।” लेफ्टिनेंट जनरल कृष्णा परिजनों के बीच काफी प्रिये,मिलनसार एवं मृदुभाषी ब्यक्तित्व के धनी हैं। फोटो में पत्नी बिभा कृष्ण, पुत्र पायलट अनन्त पाण्डेय एवं आशिश पाण्डेय के साथ पारिवारिक जीवन में दिखाई पड़ रहे हैं।
उक्त आशय की जानकारी उनके अग्रज मिथलेश पाण्डेय ने दिया है।

Next Post

डेंगू एवं चिकनगुनिया से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट दिशा निर्देश जारी पहल शुरू

Thu Jun 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it डेंगू एवं चिकनगुनिया से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग अलर्ट दिशा निर्देश जारी […]

ब्रेकिंग न्यूज़

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links