गुरुपूर्णिमा 24 जुलाई शनिवार को

गुरुपूर्णिमा 24 जुलाई शनिवार को

मोतिहारी।पु.च
स्नान दान सहित गुरुपूर्णिमा का पुनीत पर्व 24 जुलाई शनिवार को मनाया जाएगा। आषाढ़ शुक्लपक्ष की पूर्णिमा तिथि गुरुपूर्णिमा व व्यास पूर्णिमा के नाम से प्रसिद्ध है। इस दिन अपने-अपने गुरु को भगवान के रूप में मानते हुए उनकी पूजा की जाती है,इसीलिए इसे गुरु पूजा का पर्व भी कहते हैं।उक्त जानकारी महर्षिनगर स्थित आर्षविद्या शिक्षण प्रशिक्षण सेवा संस्थान-वेद विद्यालय के प्राचार्य सुशील कुमार पाण्डेय ने दी ।उन्होंने बताया कि गुरुपूर्णिमा वह पर्व है,जब प्रत्येक शिष्य अपने प्राण-प्रिय पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में उपस्थित होकर कृतज्ञता व्यक्त करते हुए श्रद्धा सुमन अर्पित करता है। यही है गुरु और शिष्य का पावन संबंध,जहाँ अन्य सभी संबंध न्यून एवं नगण्य हो जाते हैं,क्योंकि गुरु-शिष्य का मिलन वैसा ही है जैसे धरती और आकाश का मिलन हो,बूँद और समुद्र का मिलन हो।हमारी संस्कृति में,समाज में एवं शास्त्रों में गुरु का गौरवपूर्ण स्थान प्राचीनकाल से ही वंदनीय रहा है। गुरु का गौरवगान करते हुए देवतुल्य माना गया है। प्राचीनकाल में जब बालक गुरुकुल में जाकर अपने पूज्य गुरु से शिक्षा ग्रहण करते थे तो सर्वप्रथम उनमें आस्था जागृत की जाती थी,क्योंकि जब तक आस्था नहीं तब तक उपलब्धि नहीं। अतः उपलब्धि के लिए लक्ष्य तक पहुंचने के लिए गुरु के प्रति आस्थावान होना आवश्यक है।

Next Post

बड़ी धूमधाम से मनाया गया भगवान श्री जगन्नाथ जी का रथयात्रा

Wed Jul 21 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it बड़ी धूमधाम से मनाया गया भगवान श्री जगन्नाथ जी का रथयात्रा मोतिहारी।पु.च रुलही […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links