हनुमान प्राण प्रतिष्ठा महायज्ञ का पांचवां वार्षिकोत्सव समारोह शुरू

हनुमान प्राण प्रतिष्ठा महायज्ञ का पांचवां वार्षिकोत्सव समारोह शुरू

सत्येन्द्र कुमार शर्मा, सारण:
श्री हनुमत लला मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा सह मारूति नंदन महायज्ञ के पांचवें वर्षगांठ पर डाढीबाढी मंदिर प्रांगण में दो दिवसीय धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन 15 जुलाई एवं 16 जुलाई 2021 को आयोजित किया गया हैं। जिसकी शुरुआत आज कलशयात्रा से हुई। हजारों की भीड़ में 301 कलशयात्री, घोड़े, बैंड, डीजे , नाटक मंडली, मास्क लगाएं और सामाजिक दूरी का अनुपालन करते हुए डाढीबाढी मंदिर से आनंदपुर हनुमान मंदिर, विश्वनाथ ब्रह्म बाबा, कानून ब्रह्म बाबा की पूजा करते हुए नहर के रास्ते बनियापुर पोखरा से जल भरकर बनियापुर मेला में स्थित हनुमान जी से आशीर्वाद लेंकर वापस मंदिर प्रांगण में पहुंचे। कार्यक्रम में 15 जुलाई को कलशयात्रा के पश्चात अखण्ड अष्टयाम का शुभारंभ किया गया एवं भण्डारा का आयोजन किया गया है। 16 जुलाई को सुबह 9 बजे से मारूति नंदन हनुमान जी महाराज का सर्वविधि पूजन , अष्टयाम का समापन के बाद विशाल भण्डारा एवं रात्रि 8 बजे से भोजपुरी के विख्यात एवं लोकप्रिय गायक श्री बिजेंद्र गिरी द्वारा भक्ति संगीत द्वारा भगवान का गुणगान किया जाएगा। यज्ञ के मुख्य जजमान सपत्नीक सुरेन्द्र पाण्डेय एवं स्थानीय 9 ब्राह्मण के साथ मुख्य आचार्य राज किशोर दीक्षित रहे। आयोजन में पुजारी सुरेन्द्र पुरी,प्रभू नाथ उपाध्याय, रामाधार पाण्डेय, शत्रुघ्न पाण्डेय, राजू यादव, जयशंकर शुक्ल, संजय पाण्डेय, राजू शर्मा, अखिलेश पांडेय, अशोक पाण्डेय, कमलेश यादव, मिथिलेश यादव, मिथिलेश पाण्डेय, आदर्श पाण्डेय, अमित पांडेय, सुनिल शर्मा आदि के साथ नवयुवक मंडली, एवं सभी ग्रामीण जी जान से समर्पण भाव से लगे रहे।

Next Post

छपरा जं० रेलवे स्टेशन से सेवानिवृत्त गार्डों को भावभीनी विदाई

Thu Jul 15 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it छपरा जं० रेलवे स्टेशन से सेवानिवृत्त गार्डों को भावभीनी विदाई सत्येन्द्र कुमार शर्मा, […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links