उत्तर पुस्तिका मुल्यांंकण का वहिष्कार करने वाले शिक्षकों के वेतन भुगतान से हर्ष

उत्तर पुस्तिका मुल्यांंकण का वहिष्कार करने वाले शिक्षकों के वेतन भुगतान से हर्ष

मुन्ना कुमार,मढ़ौरा

निलंबन मुक्त जिला परिषद उच्च माध्यमिक एवं माध्यमिक शिक्षकों के वेतन का भुगतान किया गया।
सारण जिला के विभागीय संचिका संख्या: 11/वी 1-08/2013, अंश-2-806 के आलोक में विभाग के निर्देशानुसार हड़ताल के दौरान जिन शिक्षकों को मूल्यांकन कार्य में भाग नहीं लेने के कारण निलंबित कर दिया गया था उनका वेतन भुगतान कर दिया गया है। जिससे निलंबित शिक्षकों में काफी खुशी की लहर दौड़ पड़ी है ।चुकी 78 दिनों की हड़ताल के बाद उनका वेतन भुगतान नहीं हो पाने से वे आर्थिक तंगी की स्थिति से जूझ रहे थे।
इस वेतन भुगतान ने राज्य माध्यमिक शिक्षक संघ एवं जिला माध्यमिक शिक्षक संघ पर बहुत बड़ा प्रश्न चिन्ह उठा दिया है। क्योंकि बिना प्रक्रिया में भाग लिए कुछ निलंबित शिक्षकों का वेतन भुगतान कैसे कर दिया गया सारण जिले में यह प्रश्न सभी विभागीय पदाधिकारियों एवं जिला माध्यमिक शिक्षक संघ पर बहुत बड़ा प्रश्न उठाता है की इसकी जिम्मेवारी कौन लेगा एवं उन्हें कटघरे में खड़ा करता है। यदि तथाकथित कहे जाने वाले कुछ जिले के निलंबित शिक्षक इस कार्य में नहीं लगते तो यह फाइल विभाग एवं जिला नेतृत्व की उपेक्षा का शिकार हो जाती। निलंबित नियोजित शिक्षकों के वेतन भुगतान पर कार्य करने वाले टीम के सदस्यों ने काफी खुशी जाहिर की है क्योंकि जिस तरीके से निलंबन की फाइल पर सस्ती लोकप्रियता की गई जिससे शिक्षकों का वेतन भुगतान एक चुनौती बन गया था। खुशी जाहिर करने वालों में विद्यासागर विद्यार्थी, एकमात्र नियमित शिक्षक विष्णु कुमार संयुक्त सचिव बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ सारण, सुजीत कुमार अनुमंडल सचिव, शिक्षक नेता सुनील,पंकज कुमार,विनोद कुमार ठाकुर अनिल कुमार सिंह राजीव चौधरी एवं अन्य लोग शामिल हुए।

Next Post

योग्य पिता के योग्य संतान लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण

Thu Jun 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it योग्य पिता के योग्य संतान लेफ्टिनेंट जनरल अभय कृष्ण सत्येन्द्र कुमार शर्मा, लेफ्टिनेंट […]

ब्रेकिंग न्यूज़

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links