जिले में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर

जिले में संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर

नितू राय

अररिया, 24 नवंबर : जिले में एक बार फिर से कोरोना संक्रमण के मामलों में बढ़ोतरी देखी जा रही है. पहले चुनाव व बाद में पर्व-त्यौहारों के दौरान बरती गयी असावधानी के कारण यह वैश्विक महामारी फिर से जिले में अपना पांव पसारने लगा है. जिले में अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ कर 6647 हो चुकी है. तो अब तक 6554 लोग संक्रमण से पूरी तरह मुक्त हो चुके हैं. सिविल सर्जन रूपनारायण कुमार ने कहा हर दिन संक्रमण के नये मामले सामने आ रहे हैं. बीते सोमवार को जिले में संक्रमण के कुल 18 नये मामले सामने आयें. जिले में बढ़ते संक्रमण के मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग इस पर प्रभावी तौर पर अंकुश लगाने के प्रयासों में जुट गये हैं.
स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ जिलाधिकारी ने की बैठक
जिले में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए बीते सोमवार को जिलाधिकारी की अध्यक्षता में स्वास्थ्य अधिकारियों की संपन्न बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिये गये. बैठक में जिलाधिकारी प्रशांत कुमार सीएच ने स्वास्थ्य अधिकारियों को कोरोना नियंत्रण को लेकर प्रभावी कदम उठाने का निर्देश दिया है. इस संबंध में जानकारी देते हुए सिविल सर्जन रूपनारायण कुमार ने कहा कि जिलाधिकारी ने कोरोना संबंधी जांच के मामलों में तेजी लाने का निर्देश दिया है. इसके साथ ही संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों को चिन्हित कर उनके जांच को प्राथमिकता देने की बात बैठक में कही गयी है. साथ ही संक्रमित व्यक्ति को सभी जरूरी स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने का निर्देश बैठक में दिया गया है.
स्वास्थ्य विभाग ने कसी कमर अधिकारियों को दिये जरूरी निर्देश
जिलाधिकारी की अध्यक्षता में संपन्न बैठक के तत्काल बाद वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से सिविल सर्जन की अध्यक्षता में महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गयी. इसमें सभी पीएचसी के प्रभारी, प्रखंड स्वास्थ्य प्रबंधक सहित संबंधित अन्य अधिकारियों ने भाग लिया. इस संबंध में जानकारी देते हुए सिविल सर्जन रूपनारायण कुमार ने कहा कि स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ हुई बैठक में कोरोना संबंधी जांच में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है. संदेहास्पद सभी लोगों को जांच के दायरे में शामिल करने के लिये अधिकारियों को निर्देशित किया गया है. इतना ही नहीं आरटीपीसीआर जांच को ज्यादा तरजीह देने की बात कही गयी है. साथ ही विभिन्न पीएचसी के माध्यम से हुई जांच को तत्काल कोविड-19 पोर्टल पर अपलोड करने व इसे लेकर बैक लॉग को खत्म करने का निर्देश दिया गया है. जांच के लिये सभी पीएचसी को अलग-अलग लक्ष्य दिये गये हैं.
मास्क व शारीरिक दूरी संक्रमण से बचाव के लिये जरूरी
सिविल सर्जन रूपनारायण कुमार ने कहा कि पिछले कुछ समय से मास्क लगाने व शारीरिक दूरी का ध्यान रखने के मामलों में काफी लापरवाही देखी जा रही है. जो बेहद खतरनाक साबित हो सकता है. पहले चुनाव व बाद में पर्व-त्यौहार के दौरान बरती गयी इस तरह की लापरवाही के कारण संक्रमण के मामलों में स्पष्ट वृद्धि देखी जा रही है. कारगर दवा के आने तक मास्क व शारीरिक दूरी ही संक्रमण से बचाव का प्रभावी उपाय है. लिहाजा लोगों को इसके प्रति गंभीर होना होगा. ताकि हम इस वैश्विक महामारी को करारी मात दे सकें.
संक्रमण से बचाव के लिये करें ये उपाय
नियमित रूप से मास्क का सेवन करें
भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें
आपसी मेल-जोल के वक्त शारीरिक दूरी का ध्यान रखें
थोड़े-थोड़े समयांतराल बाद हाथों की सफाई करें
हाथों की सफाई के लिये साबुन व एल्कोहल युक्त सैनिटाइजर का उपयोग सुरक्षित
सार्वजनिक जगहों पर थूकने से परहेज करें
बार-बार अपने नाक, मूंह व आंख को छूने से परहेज करें ।

Next Post

जयप्रकाश विश्वविद्यालय द्वारा संशोधित परीक्षा कार्यक्रम

Wed Nov 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it जयप्रकाश विश्वविद्यालय द्वारा संशोधित परीक्षा कार्यक सत्येन्द्र  कुमार शर्मा जयप्रकाश विश्वविद्यालय छपरा द्वारा […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links