जगन्नाथ जी की रथयात्रा रुलही कॉलनी मे धूमधाम से निकाली गई

जगन्नाथ जी की रथयात्रा रुलही कॉलनी मे धूमधाम से निकाली गई


प्रमोद कुमार

मोतिहारी : शहर के रुलही कॉलनी नंबर 2 में मंगलवार को श्रद्धा पूर्वक भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकाली गईl इस मौके पर कला संस्कृति मंत्री प्रमोद कुमार भी मौजूद रहेl हालांकि, इस भगवान जगन्नाथ के रथ यात्रा में कोरोना संकट का असर देखने को मिला.’महाप्रसाद का हुआ वितरण’ रथ पर भगवान जगन्नाथ, उनके भाई बलभद्र और बहन सुभाद्रा सवार थीl रथ को खिंचने के लिए श्रद्धालुओं में होड़ लगी हुई थीl जगन्नाथ जी की रथयात्रा रुलही कॉलनी नंबर 2 से कॉलनी नंबर 1 तक निकाली गई. मौके पर आयोजन समिति की ओर से माहाप्रसाद का वितरण भी किया गयाl रथयात्रा में सोशल डिस्टेंसिग का खास ख्याल रखा गया.’बता दें कि रुलही में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा का शुरुआत 60 वर्ष पहले डॉ. कांतिलाल देवनाथ और उनकी पत्नी बसुधा देवी ने शुरु की थी. जिस परम्परा को उनके पुत्र ने स्थानीय ग्रामीणों के मदद से जारी रखा हैl सबसे पहले पुरी में शुरू हुई थी रथयात्रा उड़ीसा राज्य का पुरी क्षेत्र जिसे पुरुषोत्तम पुरी, शंख क्षेत्र, श्रीक्षेत्र के नाम से भी जाना जाता हैl कहा जाता है कि वहीं से सबसे पहले रथ यात्रा की शुरूआत हुई थीlयह भूमी भगवान श्री जगन्नाथ जी की मुख्य लीला-भूमि के रूप में मशहूर है. उत्कल प्रदेश के प्रधान देवता श्री जगन्नाथ जी ही माने जाते हैंl यहां वैष्णव धर्म की मान्यता है कि राधा और श्रीकृष्ण की युगल मूर्ति के प्रतीक स्वयं श्री जगन्नाथ जी हैंl भगवान श्री जगन्नाथ जी की रथयात्रा आषाढ़ शुक्ल द्वितीया को आयोजित की जाती हैl यह रथयात्रा पुरी का प्रधान पर्व भी हैl इसमें भाग लेने के लिए हजारों संख्या में बाल, वृद्ध, युवा, नारी देश के सुदूर प्रांतों से आते हैं. धीरे-धीरे रथयात्रा निकालने की परंपरा देश के अन्य हिस्सों में भी शुरू हो गईl

Next Post

सुगौली मे वज्रपात से एक की मौत

Thu Jun 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it सुगौली मे वज्रपात से एक की मौत रविशंकर मिश्रा सुगौली 25 जून  : […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links