कोरोना काल में नवजात का रखें ध्यान, समय से कराएं टीकाकरण

कोरोना काल में नवजात का रखें ध्यान, समय से कराएं टीकाकरण

सहरसा 29 जुलाई : कोरोना काल का दौर चल रहा है। लोग संक्रमण की रोकथाम के मद्देनजर अपने स्तर पर जरुरी सावधानियां रख रहे हैं। बचाव के उपाय कर रहे हैं, लेकिन इस समय नवजात शिशुओं के भी स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जिसमें उनका सम्पूर्ण टीकाकरण करा कर उन्हें भविष्य में होने वाली कई बीमारियों से सुरक्षा प्रदान की जा सकती है।
बच्चे के जन्म के पहले साल में लगने वाले टीके बहुत अहम होते है। ये टीके समय से दिए जाने बहुत जरूरी हैं। जन्म के समय लगने वाले बीसीजी, पोलियो और हैपेटाइटस बी के टीके प्रसव के बाद अस्पताल में ही दे दिये जाते हैं। कोविड-19 के कारण लोगों में डर भी बना हुआ है और वो अस्पताल या क्लीनिक में जाने से बच रहे हैं पर टीकाकरण ना हो पाना नई स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म दे सकता है। जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डाक्टर कुमार विवेकानंद के मुताबिक बच्चों को समय पर टीका लगना बेहद जरुरी है। नियमित टीकाकरण ना होने से सैकड़ों-हजारो बच्चों के स्वास्थ्य पर असर हो सकता है।

टीकाकरण को लेकर बरती जा रही सतर्कता :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ कुमार विवेकानंद ने बताया जिले में टीकाकरण की पुन: शुरुआत की गई है और टीकाकरण सत्रों पर कोविड-19 के नियमों का अनुपालन सख्ती से किया जा रहा है। आंगनबाड़ी केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और जिला अस्पताल में टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है। सभी जगह शारीरिक दूरी और साफ-सफाई का खास ध्यान रखा जा रहा है ताकि किसी भी सूरत में कोई भी संक्रमित न हों।

बच्चों को समय से टीका देना क्यों जरूरी: डॉ कुमार विवेकानंद ने बताया किसी बीमारी के खलिाफ़ बच्चे के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करने के लिए उसे टीका दिया जाता है। नवजात शिशु का शरीर वातावरण में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया के हमले से अनजान होता है. ऐसे में बच्चे में कुछ खतरनाक बीमारियों के खिलाफ रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित की जाती है ताकि उस वायरस का हमला होने पर बच्चे का शरीर उससे लड़ सकें।

Next Post

किचन गार्डन एवं रूफ-टॉप वेजिटेशन को बढ़ावा देने की पहल

Thu Jul 30 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it किचन गार्डन एवं रूफ-टॉप वेजिटेशन को बढ़ावा देने की पहल कटिहार 28, जुलाई: […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links