महात्मा गांधी केवि ऑनलाइन कराएगा फाइनल सत्रांत परीक्षाएं कार्यक्रम जारी

महात्मा गांधी केवि ऑनलाइन कराएगा
फाइनल सत्रांत परीक्षाएं कार्यक्रम जारी

मोतिहारी।पु.च
जैसे जैसे कोरोना से उत्पन्न स्थिति सामान्य हो रही है शैक्षिक गतिविधियां पटरी पर लौटने लगी हैं। बिहार में भी उच्च कक्षाओं के लिए जारी प्रतिबंधों में ढील के बाद पहले 11वीं से ऊपर की कक्षाओं वाले शैक्षिक संस्थान खुले और अब स्कूली शिक्षा को पटरी पर लाने की तैयारी है।परीक्षाओं के आयोजन पर से प्रतिबंध हटने के बाद विभिन्न शैक्षिक संस्थान अुपने यहां की लंबित परीक्षाओं का कार्यक्रम एक कर अपने स्तर से घोषित कर रहे हैं। इस क्रम में मोतिहारी स्थित महात्मा गांधी केंद्रीय विश्वविद्यालय ने भी विभिन्न पाठ्यक्रमों के फाइनल सेमेस्टर की सत्रांत परीक्षाओं की घोषणा कर दी है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की नई गाइडलाइन के आलोक में एहतियातन ये परीक्षाएं इसबार ऑनलाइन मोड में होंगी। परीक्षा नियंत्रक डा. कृष्णकांत उपाध्याय ने बताया कि जिन कक्षाओं की फाइनल सत्रांत परीक्षाओं की घोषणा की गई है उनमें पुस्तकालय विज्ञान स्नातक (बी.लिब) के दूसरे, बीटेक के आठवें, बीए आनर्स हिंदी के छठे, स्नातकोत्तर (पीजी) में सभी विषयों के चौथे और एमफिल के पहले सत्र की फाइनल परीक्षाएं दो अगस्त से शुरू होंगी। परीक्षा प्रतिदिन दो पारियों में दो-दो घंटे की समयावधि में पूरी होंगी। पहली पारी की परीक्षाएं 11 से एक बजे तक और दूसरी पारी की परीक्षा दो से चार बजे के बीच अलग-अलग कार्यक्रमों के अनुसार होंगी। विस्तृत कार्यक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट (www.mgcub.ac.in) पर उपलब्ध करा दी गई है। किसी भी शंका या संदेह की स्थिति में छात्र विवि के परीक्षा विभाग से संपर्क कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि अन्य लंबित परीक्षाओं के कार्यक्रम भी शीघ्र घोषित किए जाएंगे।

Next Post

ऑटो एवं ई रिक्शा संघ के अध्यक्ष ने दी बकरीद की शुभकामनाएं

Thu Jul 22 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it ऑटो एवं ई रिक्शा संघ के अध्यक्ष ने दी बकरीद की शुभकामनाएं मोतिहारी।पु.च […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links