स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन से प्रेरणा लें नई पीढ़ी!

स्वामी विवेकानंद के जीवन दर्शन से प्रेरणा लें नई पीढ़ी!

शहाबुद्दीन अहमद

बेतिया  :   सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन के सभागार सत्याग्रह भवन में स्वामी विवेकानंद की 158 वीं जन्मदिवस पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया,इस मौके पर, सर्वधर्म प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया,जिसमें सभी धर्मों के लोगों ने भाग लिया। इस अवसर पर, अंतराष्ट्रीय पीस एंबेसडर सह सचिव सत्याग्रह रिसर्च फाउंडेशन डॉ0 एजाज अहमद ने कहा आज ही के दिन आज से 158 वर्ष पूर्व 12 जनवरी 18 63 ई0 को स्वामी विवेकानंद जी का जन्म हुआ था, उनका सारा जीवन राष्ट्र के लिए समर्पित रहा। स्वामी विवेकानंद का मानना था कि वेदांत एवं इस्लाम के आदर्शों एवं मूल्यों से सामाजिक सौहार्द, आपसी भाईचारा एवं हिंदू मुस्लिम एकता से एक नया इंसान एवं एक नया समाज बनाने की आवश्यकता है।

मातृभूमि के उत्थान के लिए उम्मीद की यही एक किरण है। स्वामी विवेकानंद छुआछूत, भेदभाव, सामाजिक कुरीतियों के विरुद्ध जीवन भर संघर्ष करते रहे, साथ ही नई पीढ़ी से आह्वान करते हुए वक्ताओं ने कहां की युवाओं को धर्म जाति से ऊपर कर राष्ट्र निर्माण को आगे आने की आवश्यकता है, जिस से स्वामी विवेकानंद का विकसित भारत एवं समृद्धि विश्व का सपना पूरा हो सके। इस अवसर पर वक्ताओं ने कहा कि प्रत्येक वर्ष स्वामी विवेकानंद की जन्मदिन को युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है! स्वामी विवेकानंद का मानना था कि सारा विश्व एक परिवार है, और सारे लोग एक परिवार के सदस्य हैं।

Next Post

बाल मजदूरी के मामले में प्रतिष्ठान के संचालक हुए नामजद:-- श्रम प्रवरतन पदाधिकारी 

Wed Jan 13 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it बाल मजदूरी के मामले में प्रतिष्ठान के संचालक हुए नामजद:– श्रम प्रवरतन पदाधिकारी  […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links