सांसद रूडी का प्रयास रंग लाया रिंग बांध बनकर तैयार कटाव एवं बाढ़ से सुरक्षित

सत्येन्द्र कुमार शर्मा

सांसद राजीव प्रताप रुडी के अथक प्रयास से लोकनायक जयप्रकाश नारायण की धरती पर रिंग बांध बनकर तैयार हो गया है।दियारा क्षेत्र नदी कटाव से सुरक्षित एवं बाढ़ नियंत्रण की मुकम्मल तैयारी हो गई है।

वर्ष 2017 में लोकनायक की जयंती समारोह में श्री रुडी ने कटाव से बचाने का किया वादा किया।

बिहार सरकार की 93 करोड़ की परियोजना पूर्ण हो गई।
उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की 41 करोड़ की योजना पूर्ण हो गई।

सारण लोकसभा संसदीय क्षेत्र अन्तर्गत लोकनायक जयप्रकाश नारायण की धरती सिताब दियारा को नदी के कटाव से बचाने का स्थानीय सांसद राजीव प्रताप रुडी का प्रयास रंग लाया और 130 करोड़ से अधिक की लागत से रिंग बांध का निर्माण हुआ। वर्ष 2017 के अक्टूबर में सिताब दियारा को बचाने के लिए आंदोलन कर रहे नागरिकों के बीच श्री रुडी ने वादा किया जिसे पूरा कर लिया गया है।
गौरतलब यह है कि विलुप्त होने के कगार पर खड़े सिताब दियारा को बचाने के लिए 93 करोड़ की लागत से रिंग बांध के निर्माण संबंधी परियोजना के प्रस्ताव को बिहार सरकार से स्वीकृति दिलाते हुए योजना को पूरा किया गया। साथ ही गांव में बिजली,पानी ,केंद्र एवं राज्य सरकार द्वारा म्यूजियम का निर्माण उस गांव में एम्बुलेंस,जल का उत्तम व्यवस्था आदि किया गया है। रिंग बांध निर्माण के लिए श्री रुडी ने जल, संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय की सलाहकार समिति द्वारा उत्तर प्रदेश सरकार के 40.4976 करोड़ की राशि का प्रस्ताव भी स्वीकार करवाया। दरअसल इसके लिए सारण सांसद राजीव प्रताप रुडी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अलग-अलग मुलाकात कर सिताब दियारा को बचाने की बात कही और इसके लिए दोनों राज्य सरकारों का सहयोग मांगा।
ज्ञात हो कि श्री रुडी द्वारा वर्ष 2017 के अक्टूबर में लोकनायक की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने उनके गांव गये थे। उस समय श्री रुडी ने अधिकारियों के साथ नदी के कटाव का निरीक्षण भी किया था। वहीं लोकनायक की धरती को नदी के कटाव से बचाने के लिए आंदोलन कर रहे नागरिकों से वादा भी किया था। इसके पश्चात ही श्री रुडी ने राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की।
परियोजना का दो राज्यों से जूड़े होने के कारण केंद्र और राज्यों के सामान्य हित के व्यापक विषयों को देखने वाली अंतर-राज्य परिषद में इस विषय को रखने के लिए श्री रुडी ने तत्कालीन केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मिलकर चर्चा की और उन्हें इस परियोजना के संदर्भ में विस्तार से बताया था। मालूम हो कि भारतीय संविधान में केन्द्र और राज्यों के मध्य संबंधों मे समन्वय व इनसे संबन्धित विवादित मुद्दों को सुलझाने हेतु प्रशासनिक स्तर पर 1990 में अन्तर्राज्यीय परिषद् का गठन किया गया था। यही नहीं मामला नदियों के कटाव से जूड़ा होने के कारण श्री रुडी ने इसके लिए केन्द्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और जहाजरानी मंत्री नितिन गडकरी से भी मुलाकात की और सिताब दियारा को बचाने में उनका सहयोग मांगा। श्री रुडी के प्रयास और बिहार सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार के सहयोग से अब सिताब दियारा को बचाने के लिए रिंग बांध बनकर तैयार हो गया है।

Next Post

द बर्निंग बस बनी हिमगिरि ट्रेवल्स,बाल बाल बचे यात्री

Fri Jun 26 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it द बर्निंग बस बनी हिमगिरि ट्रेवल्स,बाल बाल बचे यात्री गजेंद्र कुमार,दरियापुर सीमावर्ती दिघवारा […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links