जिले के एक मजदूर की केरल राज्य में छत से गिरकर मौत

जिले के एक मजदूर की केरल राज्य में छत से गिरकर मौत

शहाबुद्दीन अहमद

बेतिया शनिवार 27 जून 20 : जिला के मानपुर थाना के लॉकर निवासी ,नारायण दिस्वं, उम्र 25 वर्ष की मौत 6 मंजिला इमारत से गिरने के कारण हो गई है, मजदूर के रूप काम करने वाले मजदूर , नारायण दीस्वा, पिता ,आशा दिस्वा ने भी अपने पुत्र की मरने की पुष्टि की है। घटना के संबंध में, संवाददाताओं को पता चला है कि नारायण दीसुआ 5 महीना पूर्व काम करने के लिए केरल राज्य के कड़ुआ कुलम गया था, जहां काम करते समय 6 मंजिला इमारत से गिरकर दुर्घटना के पश्चात घटनास्थल पर ही उसकी मृत्यु हो गई, कंपनी के अधिकारियों ने फोन कर बताया उसके पिता को बताया कि पत्थर बालू मिक्सिंग मशीन में काम करते वक्त वह दुर्घटना का शिकार हो गया , वह छ : मंजिलें इमारत से नीचे गिर जाने का कारण मौके पर ही उसकी मृत्यु हो गई,कंपनी के अधिकारियों ने फोन करके उसके परिजनों को बताया, साथी यह भी परिजनों को आश्वस्त किया है कि पोस्टमार्टम की प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद शव को फ्लाइट से पटना भेज दिया जाएगा ,मौत की खबर पहुंचते ही नारायण के धर में मातम छा गया, परिजनों के रोने की आवाज सुन गांव के लोग मर माहीत हो गए। रोजी -रोटी के चक्कर में , मृतक नारायण दिसवा लॉकडाउन में भी वह घर नहीं लौट सका, क्योंकि वह वहां काम कर रहा था और मजदूरी के रूप में उसे पैसा मिल रहा था, जिससे घर वालों का पालन पोषण का काम चल रहा था, नारायण दिसवा की मृत्यु की खबर पाकर गांव के लोगों ने उसके पिता आशा दिशवा को समझा-बुझाकर उसको संतावना दिया के ऊपर वाले की यही मर्जी थी इसमें हम लोग क्या कर सकते हैं, सांत्वना देने वालों में चौहट्टा के मुखिया ,गोविंद महतो एवं समाजसेवी ,सेनापति सिंह सहित अन्य ग्रामीणों ने कंपनी से पीड़ित परिवार को उचित मुआवजा देने की मांग की है।

Next Post

विधायक ने किया सड़कों का शिलान्यास

Sun Jun 28 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it विधायक ने किया सड़कों का शिलान्यास शमीम अख्तर केसरिया 27 जून 20 : […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links