बाढ़ पीड़ितों द्वारा जरुरत सामानों के मांग को लेकर ‌विरोध प्रर्दशन

बाढ़ पीड़ितों द्वारा जरुरत सामानों के मांग को लेकर ‌विरोध प्रर्दशन

राजवर्द्धन सिंह राठौड़

सीवान, शनिवार 01 अगस्त : लकड़ी नबीगंज के बाढ़ प्रभावितों ने जरुरत के सामानों की मांग को लेकर ‌विरोध प्रर्दशन पर उतर आए हैं।
भीषण बाढ़ बारिश की त्रासदी के कोपभाजक प्रशासन के बेरुखी के खिलाफ सड़कों पर सरकार विरोधी नारे आगजनी आदि कर विरोध प्रकट कर रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि सीवान जिले के लकड़ी नबीगंज प्रखंड के 40 राजस्व गांव,11 पंचायत पूरी तरह से बाढ़ की त्रासदी झेलने को विवश हो गए हैं। बाढ़ एवं बारिश के पानी से भयंकर रूप से प्रभावित है ।तीन लोगों के बाढ़ के पानी में दहने से मौतें हो चुकी है वहीं एक महिला को विषैले सर्प ने डस लिया है जिससे उनकी स्थिति नाजुक बनी हुई हैं। मुसेहरी के मृतक ब्रजकिशोर महतो 58 वर्ष, खवासपुर के अंकित कुमार महतो 12 वर्ष, बसौली के 14 वर्ष, सचिन कुमार राय शामिल हैं। मुसेहरी गांव के जलील मियां की पत्नी मतिजन बीवी जिनको विषैले सर्प ने डस लिया है स्थिति नाजुक बनीं हुई हैं।
बाढ़ पीड़ितों को भोजन, पेयजल,स्वास्थ ,सुविधा ,नाव का वार्ड स्तर पर व्यवस्था नहीं होने से लकड़ी नबीगंज के लाखों वासीदे परिवार को दो वक्त का भोजन दर्शन नहीं हो पा रहा है जिससे लोगों में त्राहिमाम हाय तौबा मचा हुआ है।
प्रशासन व सरकार की उदासीनता के खिलाफ बाढ़ पीड़ितों द्वारा जमकर विरोध प्रदर्शन जारी है।
लकड़ी नवीगंज प्रखंड के बाढ़ प्रभावित पंचायतों परौली, भदा, बाल्डीहा ,डुमरा ,बाला ,भोपतपुर, खवासपुर, लखनौरा, लकड़ी बसौली ,गोपालपुर ,जगतपुर के तकरीबन 40 राजस्व गांव शामिल हैं।जिनमें से कई के घर भी ध्वस्त हो गए हैं तो कई के बाढ़ के पानी में दह गए हैं।
सभी लोग विस्थापित होकर अन्यत्र नहर के बांध एवं मार्गों पर तंबू गाड़ कर जीवन बसर करने को विवश हो गए हैं।
इसके बावजूद भी राहत सामग्री वितरण नहीं किया जा रहा है।

Next Post

भावी मुखिया सुमंत के सहयोग से चूड़ा व गुड़ का कराया वितरण

Sat Aug 1 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it भावी मुखिया सुमंत के सहयोग से चूड़ा व गुड़ का कराया वितरण प्रमोद […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links