सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड का आयुक्त ने किया निरीक्षण, कहा-मरीजों की सुविधाओं में नहीं हो कमी

सदर अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड का आयुक्त ने किया निरीक्षण, कहा-मरीजों की सुविधाओं में नहीं हो कमी

 

सहरसा 1 अगस्त: शनिवार को प्रमंडलीय आयुक्त के सेंथिल ने सदर अस्पताल सहरसा आइसोलेशन केन्द्र का निरीक्षण कर कोरोना वायरस से प्रभावित मरीजों के चल रहे इलाज की सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त की। वह सदर अस्पताल के आइसोलेशन केन्द्र पर गये, जहां कोरोना के मरीजों को भर्ती किया गया है और उनका इलाज चल रहा है।

आयुक्त ने यहां पर मरीजों को मिल रही सुविधाओं की जानकारी भी सिविल सर्जन से प्राप्त की।साथ ही उन्होंने कोवडि किट की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने सिविल सर्जन डॉ अवधेश कुमार को बताया कि आउटसोर्सिंग के मदद से साफ सफाई पर भी और अधिक ध्यान दें और सैनिटाइजेशन का काम प्रतिदिन करवाने की बात कही। उन्होंने कहा कि प्रत्येक कोविड मरीज के बेड के बगल में एक डस्टबिन तथा बैड ट्रॉली लगाया जाए। उन्होंने जिला सिविल सर्जन से कई टेक्निकल बातों पर चर्चा एवं इस संबंध में जानकारियां भी ली। साथ ही निरीक्षण के बाद उन्होंने अस्पताल की सुविधाओं को देखकर संतोष भी व्यक्त किया।

ख़ुद को कोरोना वायरस से ऐसे बचाएं:

प्रमंडलीय आयुक्त ने बताया कोरोना का संक्रमण जिस रफ्तार से बढ़ रहा है, उसके लिए समुदाय के सभी लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया कोरोना से बचाव के लिए घर से निकलते वक्त मास्क का इस्तेमाल जरूर करें। साथ ही लोगों से शारीरिक दूरी बनाए रखें एवं नियमित अंतराल पर पानी एवं साबुन से हाथों को साफ करते रहे। उन्होंने कहा लॉकडाउन में मिली छूट के बाद लोग लापरवाही नही बरतें। साथ ही कोरोना के सामन्य लक्षण दिखते ही जांच कराने पर जोर दिया। खास तौर से ग्रामीण परिवेश में महामारी के भय से बचते हुए जांच आदि कार्यो के लिए जागरूकता पैदा करने पर भी जोर दिया गया।

इस मौके पर जिला पदाधिकारी कौशल कुमार ,डीआईजी एसपी सदर अनुमंडल पदाधिकारी अस्पताल अधीक्षक अस्पताल मैनेजर तथा अन्य स्वास्थ्य कर्मी उपस्थित थे।

Next Post

दिव्यांगजनों के विकास से जुड़ा है समाज का विकास

Sat Aug 1 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it दिव्यांगजनों के विकास से जुड़ा है समाज का विकास पूर्णिया, 1 अगस्त: वैश्विक […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links