सत्याग्रह साहित्य सम्मान- 2021 का किया गया आयोजन

सत्याग्रह साहित्य सम्मान- 2021 का किया गया आयोजन

विकाश कुमार राय

मोतिहारी: ख्वाब फाउंडेशन के तत्वाधान में विगत रविवार को चंपारण की साहित्यिक विकास हेतु चंपारण के साहित्यकारों एवं कवियों के उत्साहवर्धन हेतु सत्याग्रह साहित्य सम्मान-2021 का आयोजन मुंशी सिंह कॉलेज के ऑडिटोरियम में सफलतापूर्वक संपन्न हुआ । कार्यक्रम की शुरुआत आगत अतिथियों एवं साहित्यकारों द्वारा सामूहिक रुप से दीप प्रज्वलन के साथ हुआ। दीप प्रज्वलन के बाद प्रेरक ऊर्जादायी गीत “यारों चलो,बदलने की रूट आई है” द्वारा सभा के सभी दर्शक खड़े होकर भाव नृत्य किया । कार्यक्रम की प्रथम सत्र में ख्वाब फाउंडेशन के चेयरमैन मुन्ना भाई द्वारा लिखित पुस्तक कष्टमेव जयते का विमोचन किया गया । यह पुस्तक युवा एवं छात्रों के मार्गदर्शन हेतु लिखा गया है । आज इस पुस्तक का आधिकारिक विमोचन कर दिया गया यद्यपि यह पुस्तक अमेजॉन और फ्लिपकार्ट से हजार के करीब में पहले ही बिक जा चुकी है ।
इस पुस्तक को युवा से लेकर बड़े बुजुर्ग काफी पसंद कर रहे हैं। पुस्तक के बार में इसके लेखक मुन्ना भाई बताते है कि आजकल युवाओं में असफलता को लेकर डर और निराशा भर गया है इसलिए इन्हे उचित दिशा- निर्देश की जरूरत है। यह पुस्तक एक युवाओं को असली युवापन का अहसास कराकर कष्ट को नष्ट करने हेतु सक्षम बनाएगी। मुन्ना भाई की यह पहली पुस्तक है।
वही कार्यक्रम के दूसरे सत्र में सत्याग्रह टॉक का आयोजन किया गया जिसमें सभागार में उपस्थित साहित्यकारों और कवियों के साथ दर्शकों के बीच में खुला तर्क-वितर्क किया गया। इसका उद्देश्य “चंपारण में साहित्यिक विकास की समस्याएँ, समाधान और युवा भागीदारी” पर खुलकर चर्चा हुआ ।
सभागार में उपस्थित दर्शकों और साहित्यकारों ने इसके विकास के लिए विभिन्न प्रकार के रचनात्मक उपाय बताएं। कार्यक्रम का संचालन कर रहे मुन्ना भाई ने दर्शको से आकर्षक तरीके से वार्तालाप किया । सत्याग्रह टॉक द्वारा यह बात निकलकर आया कि चंपारण में साहित्यिक विकास के लिए शहरी पुस्तकालय के साथ पंचायत पुस्तकालय का निर्माण हो जिसमें चंपारण के लेखकों के पुस्तकों को धरोहर के रूप में संवारा जा सके और युवा साहित्यकारों को प्रोत्साहित किया जा सके।
वही कार्यक्रम के तीसरे सत्र में चंपारण के 14 साहित्यकारों और कवियों को विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित किया गया।
1 प्रसाद रत्नेश्वर प्रो. महेश्वर प्र. सिंह साहित्य सम्मान
2 डॉ मधुबाला सिन्हा प्रो. रामाश्रय सिंह साहित्य सम्मान
3 डॉ तफ़ज़ील अहमद प्रो. शकीलु रेहमान साहित्य सम्मान
4 डॉ अख्तर सिद्धिक शोएब शम्स साहित्य सम्मान
5 ओजैर अंजुम जमिलू रेहमान जमील साहित्य सम्मान
6 अशोक कुमार ‘राकेश’ डॉ जगदीश विकल साहित्य सम्मान
7 डॉ हरिनारायण ठाकुर सत्याग्रह साहित्य सम्मान
8 डॉ हातिम जावेद ईस्माइल वहशी साहित्य सम्मान
9 गुलरेज शहजाद पं. गणेश चौबे साहित्य सम्मान
10 टीवाई साहब सहोदर सत्यागह साहित्य सम्मान
11 स्वमभू शलभ विष्णुकांत पांण्डेय साहित्य सम्मान
12 प्रो. तारकेश्वर उपाध्याय प्रो. श्रीकांत ‘प्रसून’ साहित्य सम्मान
13 राम पुकार सिन्हा सत्याग्रह साहित्य सम्मान
14 डॉ० कुमार कौस्तुभ डॉ लव शर्मा ‘प्रशांत’ साहित्य सम्मान

कार्यक्रम का संचालन अभय अनंत ने किया । कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए ख्वाब फाउंडेशन के सक्रिय सदस्यों ने अपनी अहम भूमिका निभाई । जिसमें मुख्य रूप से समाजसेवा में स्नाकोतर कर रहे हैं सेंट्रल यूनिवर्सिटी राजस्थान के छात्र आदर्श राज, अमित कुशवाहा, सिधार्थ वर्मा, मदनकार ,मनीष कुमार सिंह, मिथिलेश कुमार, ओम प्रकाश, विकाश केसरी, मोनु, गौरव कुमार , फ़ैयाज़ आलम, ,आदर्श,मनीषा जाइसवाल, श्वेता कुमारी, अभिलाषा भारती, मिथलेश कुमार, आदर्श राज, आलोक रंजन,मुरारी कुशवाहा,अमित कुमार,सूरज कुमार सिंह ,श्रीकांत ,दूरगेनदु कुमार ,कन्हैया प्रसाद, सतिश कुमार ,नितीश कुमार सिंह ,दीपक कुमार, आनंद कुमार , सुभाष , आलोक रंजन, पवन आदि शामिल थे ।

Next Post

नीलू शंकर सिंह की भोजपुरी फिल्‍म ‘दुलरुवा’ की शूटिंग पनवेल में शुरू

Tue Feb 23 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it नीलू शंकर सिंह की भोजपुरी फिल्‍म ‘दुलरुवा’ की शूटिंग पनवेल में शुरू प्रमोद […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links