कोरोना को हराने की लड़ाई में सेनेटाइजिंग व साफ-सफाई सबसे जरूरी: गरिमा

कोरोना को हराने की लड़ाई में सेनेटाइजिंग व साफ-सफाई सबसे जरूरी: गरिमा

शहाबुद्दीन अहमद

बेतिया 24 अप्रैल : नप सभापति, गरिमा देवी सिकारिया ने नप कार्यालय में सभी 39 वार्डों के वार्ड जमादारों को बिजली से चार्ज होने वाली व बैट्री से चलने वाले सेनिटाइजर स्प्रे मशीन का वितरण किया। उन्होंने कहा कि नप के प्रायः सभी वार्डों में पूर्व से उपलब्ध कराई गई स्प्रे मशीन का उपयोग करने में एक हाथ से एयर पम्म कर के दूसरे हाथ से स्प्रे करने से काम में श्रम अधिक करना पड़ता था, नगर परिषद कोष से ली गई इस आटोमेटिक सेनेटाइजेर स्प्रे मशीन की बैट्री रात में चार्ज हो जाने के बाद पहले से कई गुना अधिक छिड़काव करेगी, इसके साथ ही उन्होंने नगर परिषद क्षेत्र के प्रत्येक वार्ड में अब इसी मशीन के माध्यम से छिड़काव सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। मौके पर मौजूद वार्ड जमादारों से उन्होंने कहा कि कोरोना को हराने की लड़ाई में सड़क, नालों में नियमित रूप से केमिकल के छिड़काव के साथ साफ-सफाई सबसे जरूरी जरूरी है, बीते एक माह से भी अधिक समय से नगर परिषद के स्वच्छता सेनानी हमारे भाई-बहन इस कार्य को अभियान बना कर के कर रहे हैं। सभापति, सिकारिया ने कहा कि यह अभियान कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा बरकरार रहने तक जारी रहेगा, क्योंकि सेनेटाइजेशन और उम्दा साफ सफाई ही इसके संक्रमण को रोकने का सबसे कारगर उपाय है। सभापति द्वारा सभी वार्ड जमादारों को अपने निजी कोष से हाथ से बने मास्क और हैंड सेनेटाइजर का वितरण किया। मौके पर कार्यपालक पदाधिकारी, विजय उपाध्याय, कनीय अभियंता, सुजय सुमन, सशक्त स्थाई समिति के सदस्य, छोटे- सिंह, रमाकांत महतो, जवाहीर प्रसाद, पार्षद शम्भू शर्मा, अश्विनी कुमार, पार्षद प्रतिनिधि तंजीर आलम, केशव राज सिंह, रिंकी गुप्ता, एनामुल हक आदि उपस्थित रहे।

Next Post

सदर एसडीएम के द्वारा मुस्लिम समुदाय के लोगों को रमजान में सोशल डिस्टेंसिंग बनाकर इबादत करने की नसीहत दी

Sat Apr 25 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it सदर एसडीएम के द्वारा मुस्लिम समुदाय के लोगों को रमजान में सोशल डिस्टेंसिंग […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links