तहसीलदार द्वारा प्रवाशी मजदूर को लात मारने के मामले में प्रशासन चुप उत्तर भारतीयों में भय

तहसीलदार द्वारा प्रवाशी मजदूर को लात मारने के मामले में प्रशासन चुप उत्तर भारतीयों में भय

मृत्युंजय पाण्डेय, पालघर

पालघर जिले के आर्यन मैदान में उत्तर भारतीय प्रवाशी मजदूर द्वारा घर जाने से संबंधित कुछ बात पूछने के बाद गुस्साये पालघर तहसीलदार द्वारा थप्पड़ और लात मारने के अमानवीय कृत्य की घटना के बाद रसूखदार तहसीलदार के विरुद्ध कारवाई की मांग पर लीपापोती को लेकर अब उत्तर भारतीय लोगों में सौतेलेपन व्यवहार का डर सताने लगा है।
ज्ञात हो कि पिछले महीने 20 मई को उत्तर प्रदेश की ओर जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन के लिए पालघर में आर्यन स्कूल के ग्राउंड में प्रवासी मजदूरों की भीड़ घर वापसी के लिए इकट्ठा हुई थी। जिनके लिए प्रशासन की ओर से टोकन के जरिए ट्रेनों से घर भेजने के प्रबंध किये गये थे। घर वापसी के लिए मजदूरों की भारी भीड़ से फैली अव्यवस्था के दौरान मौके पर पहुंचे रसूखदार तहसीलदार से एक प्रवाशी मजदूर ने कुछ बात पूछा तभी पालघर तहसीलदार ने उस मजदूर पर गुस्सा करते हुए चांटा मारा और फिर लात से मारा। इसी दौरान वीडियोग्राफी कर रहे लोगों के कैमरे में सारा वाकिया कैद होने के पश्चात मीडिया में प्रमुख खबर बन गयी थी। फिर भी रसूखदार तहसीलदार पर कार्यवाही नहीं हुई। अब यह जानकारी मिली है कि भाजपा मुंबई के वरिष्ठ नेता पूर्व सांसद किरीट सोमैया,सुनील देवघर, वेलनकर और कांग्रेस नेता व मंत्री अशोक चौह्वाण,बालासाहेब थोरात, कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत,डाँ.राजू वाघमारे के माध्यम से उत्तर भारतीय प्रतिनिधियों ने पत्रक कोंकण आयुक्त को सौपकर अविलंब कार्यवाही की मांग की गयी है।

Next Post

इनई में जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद के बलिदान दिवस पर पुष्पांजलि अर्पित

Wed Jun 24 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it इनई में जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद के बलिदान दिवस पर पुष्पांजलि अर्पित […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links