सदर स्थित चमकी वार्ड का हुआ मुआयना

सदर स्थित चमकी वार्ड का हुआ मुआयना

– डीसीएचसी की व्यवस्था से दिखे सन्तुष्ट

नीतू राय

 

सीतामढ़ी, 9 जून  : जिला भीबीडी नियंत्रण पदाधिकारी सह अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी सीतामढ़ी डॉ रवीन्द्र कुमार यादव ने सदर अस्पताल की उपाधीक्षक, डॉ सुधा झा के साथ सदर अस्पताल के जेई / एईएस वार्ड का निरीक्षण किया। बाद मे वे टेलिमेडिसीन सेंटर तथा डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर भी गये और व्यवस्था का निरीक्षण किया। साथ ही जिला भीबीडी नियंत्रण कार्यालय में जिले के कालाजार, मलेरिया, जेई / एईएस कार्यक्रम की भी समीक्षा की।
जिला में अब मात्र 18 कालाजार के रोगी-
जिला में अब मात्र 18 कालाजार के रोगी होने तथा कोरोना के बावजूद शत प्रतिशत छिड़काव होने पर उन्होंने प्रसन्नता जाहिर की। विदित हो कि गत वर्ष मई के अन्त तक 36 कालाजार के रोगी प्रतिवेदित हुए थे। मालूम हो कि सीतामढ़ी कालाजार मुक्त हो चुका है। एईएस के अबतक मात्र 4 रोगी प्रतिवेदित हुए और सभी का सफलता पूर्वक इलाज किया गया और सभी बच्चे अब स्वस्थ हैं। चमकी पर दलित तथा माह दलित टोलों में जागरूकता चलाई जा रही है।
डीसीएचसी की व्यवस्था से वे सन्तुष्ट हुए-
डीसीएचसी की व्यवस्था से वे सन्तुष्ट हुए। वहाँ कोविड से संक्रमित भर्ती एक मात्र मरीज थे जिनकी हालत स्थिर थी। उन्होंने वहां तेजी से संक्रमण मुक्त हुए मरीजों की संख्या पर संतोष जताया। उन्होंने प्रतिनियुक्त चिकित्सकों तथा नर्सों से पूछताछ की, दिए जाने वाले भोजन की गुणवत्ता का भी जायजा लिया। अस्पताल प्रबंधक अवनीश कुमार तथा फार्मासिस्ट तपोमय कुमार डीसीएचसी ने विभिन्न वार्डों का निरीक्षण कराया ।
एईएस पर काम की बातें
चमकी आने पर सांस की नली को खुला रखने के लिए रोगी को एक तरफ लिटाएं। ठुड्डी को उठाकर रखें और एक हाथ गाल के नीचे रख दें। शरीर की स्थिति को स्थिर रखने के लिए एक पैर मोड़ दें या तुरंत ही अपने आशा/जीविका दीदी/ आंगनबाड़ी सेविका से संपर्क करें तथा नजदीकी सरकारी अस्पताल ले जाएं। किसी झोला छाप डॉक्टर या झाड़ फूंक में न पड़ें।
चमकी न हो इसके लिए क्या करें:-
धूप में बच्चों को न खेलने दें
रात में खाने में मीठा जरूर दें
रात में खाना खिलाकर ही बच्चों को सुलाएं
सुबह उठते ही बच्चों को उठाएं और देखें, बच्चा कहीं बेहोश या उसे चमकी तो नहीं
नदी, पोखर या तालाब के किनारे बच्चों को न खेलने दें
बेहोशी या चमकी दिखते ही तुरंत एम्बुलेंस या नजदीकी गाड़ी से अस्पताल ले जाएं

Next Post

18 वर्ष से ऊपर के सरकारी/गैर सरकारी शिक्षक एवं उनके परिवार के सदस्यों का हो रहा है टीकाकरण

Thu Jun 10 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it 18 वर्ष से ऊपर के सरकारी/गैर सरकारी शिक्षक एवं उनके परिवार के सदस्यों […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links