बड़ी धूमधाम से मनाया गया भगवान श्री जगन्नाथ जी का रथयात्रा

बड़ी धूमधाम से मनाया गया भगवान श्री जगन्नाथ जी का रथयात्रा


मोतिहारी।पु.च
रुलही कोलनी न 02 मे 12 जुलाई,एंव 20 जुलाई 2021 को बड़ी धूमधाम से मनाया गया भगवान श्री जगन्नाथ जी का रथयात्रा।इस रथयात्रा मे भगवान श्री जगन्नाथ , बलभद्र , बहन सुभद्रा , तीनो एक साथ रथ मे बिराजमान होते है। श्री मदभगवत पुराण के अनुसार मान्यता है की जो भी भक्त भक्ति भाव के साथ सर्धा पूर्वक भगवान श्री जगन्नाथ के रथ की रस्सी खींचता है,उसका मनोकामना निश्चित रूप से पूर्ण होता है।रथ अपने निवास स्थान मंदिर रुलही कोलनी न 02 से दोपहर 3.30 बजे निकल कर रुलही कोलनी न 01 ऊंच बिद्यालय के मैदान तक गया,और वहाँ महाप्रसाद का बित्रन हुआ।एक घण्टा तक प्रसाद बित्रन के बाद फिर रथ की रस्सी खींचते हुए रुलही 02 तक पहुंचा,और नियम परम्परा के अनुसार भगवान श्री जगन्नाथ जी के मौसी के घर तक,(परसुराम दास के घर)समाप्त किया गया,जहां 7 दिन तक पूजा पाठ हुआ,ओर प्रति दिन महाप्रसाद का बित्रन हुआ।परम्परानुसर 20 जुलाई को भगवान श्री जगन्नाथ मौसी के घर से पुन:अपने निवास स्थान रुलही कोलनी न 02 मंदिर मे वापस आया ।उसी तरह श्री जगन्नाथ जी का रथ की रस्सी खींचने के लिए हजारो हजार भक्त पहुंचा,और रथ कि रस्सी खींचते हुए,आनन्द उत्साह के साथ मंदिर तक पहुंचा,जिसमे मीठे आवाज मे भक्ति गीत भी बज रहा था।मंदिर मे भगवान श्री जगन्नाथ जी, बलभद्र जी, बहन सुभद्रा जी पुनः बिराजमान के बाद महाप्रसाद का बित्रन किया गया,जिसमे हजारो हजार की संख्या मे भक्तगण प्रसाद ग्रहण किया।इस पूरे कार्यक्रम का संचालन मंदिर पुजारी श्री बलराम जी ने किया। कार्यक्रम का ब्यबस्थापक मे मदन कुमार ,डा अशोक कुमार,राज कुमार,प्रवीण कुमार,पुलक देवनाथ,सुनील देवनाथ,परसुराम दास, सहित पूरे ग्रामीणों ने सहयोग किया।ए सभी कार्यक्रम करोना महामारी को देखते हुए भी सतर्कता पूर्वक सोसल डिस्टेंट का पालन करते हुर किया गया।

Next Post

स्वतंत्र्यवीर मंगल पांडेय के जन्मदिन के उपलक्ष्य पर आयोजित आजादी का अमृत महोत्सव के अन्तर्गत भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम वेब संगोष्ठी

Wed Jul 21 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it स्वतंत्र्यवीर मंगल पांडेय के जन्मदिन के उपलक्ष्य पर आयोजित आजादी का अमृत महोत्सव […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links