कोरोना काल के बाद मशरक सीएचसी में दो महिलाओं का बंध्याकरण

कोरोना काल के बाद मशरक सीएचसी में दो महिलाओं का बंध्याकरण

संसु.
मशरक सीएचसी में कोरोना काल की दूसरी लहर के बाद सोमवार की रात आयोजित एक दिवसीय बंध्याकरण शिविर में 2 महिलाओं का बंध्याकरण किया गया। अस्पताल प्रभारी डॉ. अनंत नारायण कश्यप ने बताया कि परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत आयोजित कैंप में सीएचसी में कार्यरत सर्जन डॉ. रिजवान अहमद ने आपरेशन किया।सबसे खास बात यह हैं कि स्थानीय अस्पताल में ऑपरेशन के लिए जिले से स्वास्थ्य विभाग के तरफ से एनजीओ की टीम सीएचसी में पहुंच बध्याकरण करती थी पर कुछ महीनों पहले सीएचसी मशरक में आपरेशन के दौरान एक महिला की मौत हो गई थी जिसमें स्वास्थ्य विभाग ने उस एनजीओ का अनुबंध समाप्त कर दिया।वही अब सारण सिविल सर्जन ने सीएचसी में ही कार्यरत डॉ रिजवान अहमद को बंध्याकरण करने के लिए अनुमति दी है। चिकित्सक डॉ रिजवान अहमद ने बताया कि खुशहाली और स्वास्थ्य के लिए परिवार नियोजन बहुत ही जरूरी है साथ ही छोटा परिवार सुखी परिवार के लिए परिवार नियोजन के उपाय अपनाने की जरूरत है जिसमें सोमवार की रात्रि में दो महिलाओं का बंध्याकरण किया गया। कोविड-19 संक्रमण को लेकर विशेष ख़्याल रखा गया हैं। जिसके तहत बंध्याकरण कराने वाली महिलाओं व साथ में आने वाले परिजनों का कोविड-19 जांच करने के बाद ही आपरेशन कक्ष में आने दिया गया। बंध्याकरण करने से पहले साथ में लाये गए समान, बेड,ओटी रूम को पूरी तरह से सैनिटाइज किया गया।

Next Post

मशरक में मकान के छत से महिला गिरी, घायलावस्था में सदर रेफर

Wed Jul 21 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it मशरक में मकान के छत से महिला गिरी, घायलावस्था में सदर रेफर संसु. […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links