लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले तीन ठग गिरफ्तार

लोन दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले तीन ठग गिरफ्तार

रिपोर्ट : रविशंकर मिश्रा

Motihari । सुगौली में प्राइवेट बैंक में ऋण दिलवाने के नाम पर ठगी करने वाले तीन लोगों को ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस के हवाले किया।घटना सुगौली थाना के छपवा चौक मोतिहारी रोड की है। जानकारी के अनुसार एसबीपी माइक्रो फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के द्वारा ऋण देने के नाम पर स्वयं सहायता समूह में प्रति सदस्य सोलह सौ तेईस रुपये लेकर सदस्य बनाया गया था। और सदस्यों को समूह से पचास हजार रुपये ऋण देने की बात कही गई।ऐसे में सैकड़ो महिलाओं ने इसकी सदस्यता ग्रहण की।जब समय पूरा हो गया तो भी लोन नही मिला।थाना क्षेत्र के छपवा चौक के मोतिहारी रोड में कार्यालय खुला था। इसी बीच सोमवार को चार कर्मचारी कार्यालय में पहुंचे। जहां भारी संख्या में महिला व पुरुष भी पहुंच गए। एक व्यक्ति बोला कि मैं ऋण देने के लिए बैंक से आ रहा हूँ। और मौका देख स्वयम और अपने सहयोगियों को भागने का इशारा किया। साथ हीं हरसिद्धि पथ में बाइक से सभी जाने लगें। इनलोगों की गति विधि को संदिग्ध देख लोगो ने पीछा किया और कोबेया चौक के समीप दो बाइक पर सवार तीन लोगों को धर दबोचा। जिसके बाद छपवा चौक पर लेकर पहुंचे,जहां लोगो ने जमकर धुनाई की और प्रशासन को खबर दी।खबर मिलते ही थानाध्यक्ष विवेक जयसवाल पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की जानकारी ली। जहां लोगों के बीच से पकड़ाए लोगों को छुड़ाने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। मौके पर बंजरिया और हरसिद्धि थाना को भी बुलाना पड़ा।जहां काफी समझाने बुझाने के बाद बड़ी मुश्किल से तीनों को थाना लाया गया।पकड़े गए व्यक्ति की पहचान सिवान जिला के कुढ़नी थाना के बकुलाही निवासी धनिष कुमार दुबे,पूर्वी चंपारण के हरसिद्धि थाना के जगा पाकड़ के रत्नेश गिरी व अरेराज के रवि शंकर के रूप में की गई है।

Next Post

9800 नकद के साथ दो जुआं खेलते गिरफ्तार

Mon Jul 19 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it 9800 नकद के साथ दो जुआं खेलते गिरफ्तार सत्येन्द्र कुमार शर्मा, सारण। लम्बे […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links