कोरोना वैश्विक महामारी पर लगाम लगाने के लिए होमियोपैथिक आर्सेनिक एल्बम 30 का सेवन करें– पूर्व विधायक तारकेश्वर

कोरोना वैश्विक महामारी पर लगाम लगाने के लिए होमियोपैथिक आर्सेनिक एल्बम 30 का सेवन करें– पूर्व विधायक तारकेश्वरौऔऔ

सत्येन्द्र कुमार शर्मा

ऑर्गेनाइजेशन फॉर होमियो मिशन के सौजन्य से संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉक्टर के. के. सिंह की देखरेख में मसरख स्थित यदु मोड़ पर कोरोना विषाणु से बचाव के हक में एक नि:शुल्क दवा वितरण शिविर का आयोजन हुआ, जिसका उद्घाटन संगठन के संरक्षक एवं पूर्व विधायक तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता तारकेश्वर सिंह तथा अजय यादव,प्रदेश संयोजक गंगा समग्र अभियान एवं आर एस एस के अधिकारी, के कर-कमलों द्वारा फीता काट कर किया गया।
इस अवसर पर बोलते हुए मुख्य अतिथि तारकेश्वर सिंह ने वैश्विक महामारी कोरोना पर लगाम देने के लिए जन समुदाय से होमियोपैथिक दवा आर्सेनिक एल्बम 30 के सेवन की अपील की और इस अभियान को मसरख-बनियापुर के हर पंचायत तक पहुंचाने की घोषणा की।
अजय यादव ने कोरोना वाइरस के संक्रमण से निबटने के लिए होमियोपैथी को मुख्यधारा में शामिल करने के लिए प्रधानमंत्री व आयुष मंत्री का धन्यवाद किया और देश व दुनिया में इस महामारी से हो रही क्षति पर विस्तार से प्रकाश डाला।
राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. के.के. सिंह ने सूक्ष्म का,सूक्ष्म द्वारा, सूक्ष्म के लिए का नारा देकर कोरोना जैसे सूक्ष्म विषाणु के लिए होमियोपैथी को सक्षम कहा,क्योंकि होमियोपैथिक दवाएं शक्तिकॄत हैं, स्थूल नहीं। सूक्ष्मता की वजह से इलाज के दरम्यान या बाद में संक्रमित शरीर पर कोई दुष्प्रभाव नहीं पड़ता।
समारोह को संबोधित करने वालों में संगठन के राष्ट्रीय सह-सचिव डॉ. विवेक मिश्र, प्रदेश महासचिव डॉ.निशांत प्रभाकर, कोषाध्यक्ष डॉ.आर.के.सिंह, डॉ. रामाधार ठाकुर ,डॉ.शेषनाथ कुमार, डॉ.ज्ञानदीप, डॉ.दसईं तिवारी, डॉ.केशरी कांत मिश्रा आदि मुख्य रूप से शामिल रहे।
शिविर के माध्यम से हजारों व्यक्तियों में आर्सेनिक एल्बम 30 का नि:शुल्क वितरण किया गया।
समारोह का संचालन त्रिभुवन सिंह ने किया, जबकि धन्यवाद ज्ञापन त्रिभुवन तिवारी ने किया।

Next Post

प्रदेश महासचिव बनाये जाने पर राजद सदस्यों में हर्ष

Mon Jun 29 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it प्रदेश महासचिव बनाये जाने पर राजद सदस्यों में हर्ष मनोज कुमार, लहलादपुर प्रखंड […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links