आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की जांच के साथ हो रहा है टीकाकरण

आंगनबाड़ी केंद्रों पर गर्भवती महिलाओं की जांच के साथ हो रहा है टीकाकरण


मोतिहारी।पु.च
कोरोना काल में जिले के कई प्रखंडों के आंगनबाड़ी केंद्रों व स्वास्थ्य केन्दों पर गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य का नर्स एवं स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा जाँच व टीकाकरण किया जा रहा है। मोतिहारी सदर प्रखण्ड क्षेत्र के रामगढ़वा पंचायत के आंगनबाड़ी संख्या 185 में हेड एएनएम आरती कुमारी, सेविका सीमा कुमारी, आशा नीतू कुमारी द्वारा लगभग 18 गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य की जाँच के साथ टीकाकरण किया गया । साथ ही उन्हें साफ सफाई, परिवार नियोजन के साथ साथ पौष्टिक भोजन करने की सलाह दी गई। आरती कुमारी एएनएम ने कहा कि शारीरिक स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए बच्चों में 3 वर्षों का अंतर जरूर रखना चाहिए। महिलाओं को बढ़ी हुई जनसंख्या के बारे में बताते हुए कहा गया कि दो से ज्यादा बच्चे न रखें।  संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने व मातृ और शिशु मृत्यु दर में कमी लाने के उद्देश्य से प्रसव पूर्व जांच,के साथ जटिलता की पहचान होने से समय रहते उसका अच्छे से देखभाल किया जा सके इसकी पहचान की जा रही  है । मौके पर महिलाओं को क्रमबद्ध तरीके से कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए जांच की गई। परिवार नियोजन को बढ़ावा देने के बारे में सभी महिलाओं को बताया गया । उन्होंने बताया कि प्रखण्ड में हर माह की नौ तारीख को गर्भवती महिलाओं की पूर्ण जाँच की जा रही है। उन्हें सन्तुलित भोजन करने एवं कोरोना से बचने को  आवश्यक सलाह भी दी जा रही है। डाक्टर की सलाह के अनुसार ही दवा लें। तनावमुक्त होकर उपचार कराएं। डॉ प्रीति गुप्ता ने बताया घर में यदि कोई सदस्य कोरोना संक्रमित है तो गर्भवती के संपर्क में न आएं। खानपान की रूटीन का पालन करना जरूरी है । खुराक (डाइट) में विटामिन को जरूर शामिल करें। ऐसे में तेल, घी और मसालेदार खाने से परहेज करें ।डीसीएम नंदन झा ने बताया जननी बाल सुरक्षा योजना के तहत ग्रामीण एवं शहरी दोनों प्रकार की गर्भवती महिलाओं को सरकारी अस्पताल में प्रसव कराने के बाद अलग-अलग प्रोत्साहन राशि सरकार द्वारा प्रदान की जाती है। जिसमें ग्रामीण इलाके की गर्भवती महिलाओं को 1400 रु. एवं शहरी क्षेत्र की महिलाओं को 1000 रु. दिया जाता है। जिसमें प्रति प्रसव ग्रामीण क्षेत्रों में 600 रु एवं शहरी क्षेत्रों के लिए 400 रु दिया जाता है । इस योजना के तहत संस्थागत प्रसव पर आम लोगों के बीच जागरूकता बढ़ रही है।

Next Post

अमित कर रहे हैं युवाओं को टीकाकरण के लिए जागरूक, कई युवाओं का करवा चुके हैं टीकाकरण

Sat Jul 17 , 2021
Share on Facebook Tweet it Pin it अमित कर रहे हैं युवाओं को टीकाकरण के लिए जागरूक, कई युवाओं का […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links