बदलते मौसम में बच्चों और नवजात का रखें खास ख्याल : शिशु रोग विशेषज्ञ 

बदलते मौसम में बच्चों और नवजात का रखें खास ख्याल : शिशु रोग विशेषज्ञ 

शहाबुद्दीन अहमद

बेतिया : स्थानीय अस्पताल प्रशासन के, शिशु रोग विशेषज्ञ , डॉक्टर वाहिद इकबाल ने  बताया कि बदलते मौसम में बच्चे, नवजात शिशुओं को बीमारियों से बचाव के लिए खास ख्याल रखना होगा। बच्चों को सर्दी से बचाने के लिए पर्याप्त गरम कपड़े पहनाने चाहिए। उनके खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। सर्दी में बच्चों का खास ख्याल रखना आवश्यक होगा। खासकर एक साल से कम उम्र के बच्चे एवं नवजात शिशुओं का कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता की वजह से बच्चे आसानी से विभिन्न बीमारियों की गिरफ्त में आ जाते हैं। बच्चों को ठंड से बचाना बहुत जरूरी है। इसके लिए उन्हें गरम कपड़े पहनाएं,गर्म टोपी, दस्ताने एवं मोजे भी पहना कर रखें। ठंडे फर्श पर नंगे पैर न चलने दें। रात के समय बच्चों का कमरा हल्का गर्म होना चाहिए। खासकर नवजात शिशु का,कमरे का तापमान ऐसा हो कि माता-पिता को कंबल की ज्यादा आवश्यकता न हो। आवश्यकता पड़ने पर कमरे में हीटर का इस्तेमाल भी करना चाहिए। बच्चे को बुखार आने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लेना चाहिए । उन्होंने बताया कि नवजात शिशु में निमोनिया के बहुत से लक्षण दिखायी नहीं देते, अगर शिशु को हल्का बुखार आए या जुकाम हो तो तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। ठंड के मौसम में बच्चों को हरी सब्जियां, फल, सब्जियों का शोरबा, दूध से बनी चीजें और मेवे खिलाने चाहिए। ठंड में बच्चे पानी कम पीते हैं, जिसकी वजह से उन्हें कब्ज की शिकायत हो सकती है, समय-समय पर गुनगुना पानी देते रहें। बच्चों को बाहर खेलने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए लेकिन गरम कपड़ों के साथ बचाव करना चाहिए।
जिन बच्चों को सांस लेने की दिक्कत होती है, उन्हें धूल, धुएं और फ्लावरिंग से दूर रखें।
दो या तीन गरम कपड़े पहनाएं, क्योंकि कपड़ों के बीच जो एयर होती है वह भी ठंड से बचाव करती है।
बच्चों की खुराक संतुलित रखें और ठंडा खाना बिल्कुल न दें। विंटर डायरिया होने पर बच्चे को उबला हुआ खाना, तरल खाद्य पदार्थ (लिक्विड डाइट) और अधिक से अधिक ओआरएस दें।
मां का दूध पीने वाले बच्चे को ऊपर का दूध न पिलाएं
नवजात की ऐसे करें देखभाल,आगे उन्होंने ने बताया कि नवजात शिशुओं को ठंड में हाइपोथर्मिया होने की संभावना रहती है। जैसे ही बच्चा पैदा हो उसे मुलायम कपड़े से पूरा पोंछने के बाद दूसरे कपड़े से ढक दें। नवजात को पर्याप्त कपड़े पहनाएं। बच्चे को मां की गोद से लगा दें और उसे मां का दूध पिलाएं।
कोरोना काल में इन उचित व्यवहारों का करें पालन,-
एल्कोहल आधारित सैनिटाइजर का प्रयोग करें।
सार्वजनिक जगहों पर हमेशा फेस कवर या मास्क पहनें।
अपने हाथ को साबुन व पानी से लगातार धोएं,आंख, नाक और मुंह को छूने से बचें। छींकते या खांसते वक्त मुंह को रूमाल से ढकें।

Next Post

अदबी संगम बेतिया के बैनर तले, गुलशन ऑर्थो एंड ट्रॉमा सेंटर में ,महफिल ए मुशायरा का हुआ आयोजन

Fri Nov 20 , 2020
Share on Facebook Tweet it Pin it अदबी संगम बेतिया के बैनर तले, गुलशन ऑर्थो एंड ट्रॉमा सेंटर में ,महफिल […]

मुख्य संपादक: विकाश कुमार राय

“अपना परिचय देना, सिर्फ अपना नाम बताने तक सीमित नहीं रहता; ये अपनी बातों को शेयर करके और अक्सर फिजिकल कांटैक्ट के जरिये किसी नए इंसान के साथ जुड़ने का तरीका है। किसी अजनबी इंसान के सामने अपना परिचय देना काफी कठिन हो सकता है, क्योंकि आप उस वक़्त पर जो भी कुछ बोलते हैं, वो उस वक़्त की जरूरत पर निर्भर करता है।”

Quick Links